पुराने वाहनों की कब्रगाह: बुरबों सुरंग

पुराने वाहनों की कब्रगाह: बुरबों सुरंग

Bourbon Tunnel / Tunnel Borbonico / Bourbon Gallery: इतिहास की परतों में लिपटा प्राचीन ऐतिहासिक शहर नेपल्स (इटली) जितना जमीन के ऊपर सबको अपने सम्मोहन में कैद कर लेता है उतना ही यह जमीन के नीचे भी आकर्षक है। इस शहर की जमीन में 100 फुट की गहराई में 16वीं शताब्दी के जलमार्ग हैं जो रहस्यमयी सुरंगों से गुजरते हैं। इन रहस्यमयी सुरंगों को यह बात और पहेलीनुमा बनाती है कि इनका निर्माण एक राजा द्वारा करवाया गया था। इनमें फैंके गए मोटरसाइकिल, जंग लगी विंटेज कारें तथा पानी की टंकियां रखी गई थीं। इन सुरंगों को 1950 के बाद लंबे समय तक तक भुला दिया गया था।

bourbon-tunnel-naples-italy1

इन सुरंगों तक 18वीं शताब्दी की सीढ़ियों के माध्यम से जाया जा सकता है। ये सुरंगें सैंट्रल नेपल्स में पिआजा डेल प्लेबिसाइट्स से अधिक दूर नहीं हैं। 21वीं शताब्दी की शुरुआत में स्थानीय लोगों ने इन सुरंगों की पुनः खोज की और उन्हें पर्यटन का आकर्षण बना दिया जिसे नाम दिया गया – गैलेरिया बाबोरनिका (Bourbon Gallery)।

bourbon-tunnel-naples-italy2बहादुर पर्यटक 1740 फुट लंबी इन सुरंगों तक शहर भर का टूर करते हुए पहुंच सकते हैं और इनकी खोज कर सकते हैं। यह स्थान देखने में थोड़ा भयावह है और पिछले कुछ दशकों में इसका कई ढंगो से इस्तेमाल होता था।

बुरबों सुरंग का डिजाइन बुनियादी तौर पर बुरबों के राजा फर्दीनांद द्वितीय (King Ferdinand II of Bourbon) के लिए एक बच कर भागने वाले रास्ते के तौर पर तैयार किया गया था जो 1853 में शाही महल तथा  फौजी बैरकों को जोड़ता था। ये गुप्त रास्ते विद्रोहियों का मुकाबला करने के लिए विशेष तौर पर तैयार किए गए थे क्योंकि राजा फर्दीनांद का शासन काफी अस्थिर हो चूका था और विद्रोही उसे कड़ी चुनौती दे रहे थे। शहर के पुराने जलमार्गों का इस्तेमाल करने की उत्सुकता के चलते बोला तथा कार्मिगनैनो के जलाशयों में ढांचे का निर्माण करने की योजना बनाई गई थी। हालांकि इन सुरंगों के निर्माण के पूरा होने से पहले ही राजा की मृत्यु हो गई थी।

चूंकि अब यह रास्ता  जरूरी नहीं रह गया था इसलिए ये सुरंगें आने वाले वर्षों में विभिन्न तरीकों से प्रयोग में लाई जाती रहीं। यह स्थान कई लोगों को सुरक्षा तथा चीजें जमा करने की जगह उपलब्ध करवाता था। ये जलमार्ग यानी सुरंगें द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान एक मिलिट्री अस्पताल तथा बमों से बचने की पनागाह के तौर पर भी इस्तेमाल की रहीं। 1940 तथा 1960 के दौरान इन सुरंगों का इस्तेमाल जब्त किए गए वाहनों के गोदाम के तौर पर किया गया था।

Check Also

World Deaf Day

World Deaf Day Information For Students

World Deaf Day is observed “to create awareness among the public to show how much …