Home » Poems For Kids » Poem on Mother in Sanskrit Language एषा मम धन्या माता
Poem on Mother in Sanskrit Language एषा मम धन्या माता

Poem on Mother in Sanskrit Language एषा मम धन्या माता

एषा मम धन्या माता

एषा मम धन्या माता ।
एषा मम धन्या माता ।। ध्रुवपदम्।

या मां प्रातः शय्यातः
जागरयति सम्बोधनतः।
हरस्मिरणं या कारयति।
आलस्यं मम नाश्यति।। एषा मम…।

कुरु दत्तं ग्रहकार्यम् त्वम्,
कुरु सुत! पाठभ्यासं त्वम्।
आदेश ददती एवम्
योजयते कार्ये नित्यम्।। एषा मम…।

मधुरं दुग्धं ददाति या
स्वादु फलं च ददाति या।
यच्छति महां मिष्टान्नम्
यच्दति महां लवणत्राम् ।।एषा मम…।

कार्य सम्यक् न करोमि यदा,
अपरांध विदधामि यदा।
कलहंकुर्वन् रोदिमि यदा
तदा भ्रंश मां तर्जयति या ।। एषा मम…।

~ सम्रद्धि पेंधारकर St. Gregorios School, Gregorios Nagar, Sector 11, Dwarka, New Delhi

आपको सम्रद्धि पेंधारकर जी की यह संस्कृत कविता “एषा मम धन्या माता” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

रविवार की छुट्टी पर हिंदी बाल-कविता - आज हमारी छुट्टी है

रविवार की छुट्टी पर हिंदी बाल-कविता – आज हमारी छुट्टी है

रविवार का प्यारा दिन है, आज हमारी छुट्टी है। उठ जायेंगे क्या जल्दी है, नींद …

One comment

  1. Please could I have an English translation of this.

    It’s my mother’s birthday at the weekend and I would live to recite a poem for her in sanskrit.

    Dhanyawaadah

    Anisha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *