Haryanavi poem on lost Indian culture ढूंढते रह जाओगे

Haryanavi poem on lost Indian culture ढूंढते रह जाओगे

लुगाईयाँ का घाघरा
खिचड़ी का बाजरा
सिरसम का साग
सर पै पाग
आँगण मै ऊखल
कूण मै मूसल
ढूंढते रह जाओगे!

घरां मै लस्सी
लत्ते टाँगण की रस्सी
आग चूल्हे की
संटी दुल्हे की
कोरडा होली का
नाल मौली का
पहलवानां का लंगोट
हनुमानजी का रोट
ढूंढते रह जाओगे!

घूंघट आली लुगाई
गाँम मै दाई
लालटेण का चानणा
बनछटीयाँ का बालणा
बधाई की भेल्ली
गाम मै हेल्ली
घरां मै बुड्ढे
बैठकाँ मै मुड्ढे
ढूंढते रह जाओगे!

बास्सी रोटी अर अचार
गली मै घूमते लुहार
खांड का कसार
टींट का अचार
काँसी की थाली
डांगरां के पाली
बीजणा नौ डांडी का
दूध दही घी हांडी का
रसोई मै दरात
बालकां की दवात
ढूंढते रह जाओगे!

Check Also

बच्चों में उदासी रोग: लक्षण, सहायक परामर्श एवं सुझाव

बच्चों में उदासी रोग: लक्षण, सहायक परामर्श एवं सुझाव

मूड (मनः स्थिति) से संबंधित बीमारियां बच्चों तथा प्रौढ़ों  को लग जाती हैं। मूड ज्यादा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *