Home » Sahir Ludhianvi

Sahir Ludhianvi

साहिर लुधियानवी (८ मार्च १९२१ - २५ अक्टूबर १९८०) एक प्रसिद्ध शायर तथा गीतकार थे। इनका जन्म लुधियाना में हुआ था और लाहौर (चार उर्दू पत्रिकाओं का सम्पादन, सन् १९४८ तक) तथा बंबई (१९४९ के बाद) इनकी कर्मभूमि रही। फिल्म आजादी की राह पर (1949) के लिये उन्होंने पहली बार गीत लिखे किन्तु प्रसिद्धि उन्हें फिल्म नौजवान, जिसके संगीतकार सचिनदेव बर्मन थे, के लिये लिखे गीतों से मिली। फिल्म नौजवान का गाना ठंडी हवायें लहरा के आयें ..... बहुत लोकप्रिय हुआ और आज तक है। बाद में साहिर लुधियानवी ने बाजी, प्यासा, फिर सुबह होगी, कभी कभी जैसे लोकप्रिय फिल्मों के लिये गीत लिखे। सचिनदेव बर्मन के अलावा एन. दत्ता, शंकर जयकिशन, खय्याम आदि संगीतकारों ने उनके गीतों की धुनें बनाई हैं। 59 वर्ष की अवस्था में 25 अक्टूबर 1980 को दिल का दौरा पड़ने से साहिर लुधियानवी का निधन हो गया।

साथी हाथ बढ़ाना: साहिर लुधियानवी का श्रमिक दिवस विशेष फ़िल्मी गीत

साथी हाथ बढ़ाना - साहिर लुधियानवी - Labour Day Film Song

नया दौर का एक यादगार गीत। फिल्म नया दौर आजादी के बाद देश में किस तरह के बदलाव आए और लोग किस तरह आधुनिकता की ओर अपने कदम बढ़ाने लगे थे, इसे भी समझाया गया था। यह फिल्म भारतीयों के संघर्ष की कहानी है, जिसे बखूबी पर्दे पर उतारा निर्देशक बी.आर. चोपड़ा ने. 1957 में आई इस फिल्म से सिनेमा …

Read More »

बच्चों तुम तकदीर हो कल के हिंदुस्तान की: साहिर लुधियानवी

बच्चों तुम तकदीर हो कल के हिंदुस्तान की: साहिर लुधियानवी

बच्चों तुम तकदीर हो कल के हिंदुस्तान की बापू के वरदान की, नेहरु के अरमान की। आज के टूटे खँडहरों पर तुम कल का देश बसाओगे जो हम लोगों से न हुआ वो तुम कर के दिखलाओगे तुम नन्हीं बुनियादें हो दुनिया के नए विधान की। दीन-धरम के नाम पे कोई बीज फूट का बोए ना जो सदियों के बाद …

Read More »

बच्चे मन के सच्चे: साहिर लुधियानवी

बच्चे मन के सच्चे - साहिर लुधियानवी

बच्चे मन के सच्चे, सारी जग के आँख के तारे ये वो नन्हे फूल हैं जो, भगवान को लगते प्यारे खुद रूठे, खुद मन जाये, फिर हमजोली बन जाये झगड़ा जिसके साथ करें, अगले ही पल फिर बात करें इनका किसी से बैर नहीं, इनके लिये कोई ग़ैर नहीं इनका भोलापन मिलता है, सबको बाँह पसारे बच्चे मन के सच्चे… इन्ससान जब …

Read More »

मोहब्बत बड़े काम की चीज है: साहिर लुधियानवी

मोहब्बत बड़े काम की चीज है: साहिर लुधियानवी

हर तरफ हुस्न है, जवानी है, आज की रात क्या सुहानी है रेशमी जिस्म थरथराते है, मारामारी ख्वाब गुनगुनाते है धड़कनो मे सुरूर फैला है, रंग नजदीक-ओ-दूर फैला है दावाता-ये-इश्क दे रही है फजा आज हो जा किसी हसी पे फ़िदा के मोहब्बत बड़े काम की चीज है काम की मोहब्बत के दम से है दुनिया की रौनक मोहब्बत ना …

Read More »

मेरे भैया, मेरे चंदा, मेरे अनमोल रतन: साहिर लुधियानवी

Sahir Ludhianavi Rakhi Special Hindi Song मेरे भैया, मेरे चंदा, मेरे अनमोल रतन

मेरे भैया, मेरे चंदा, मेरे अनमोल रतन तेरे बदले मैं जमाने की कोई चीज़ ना लूं तेरी साँसोँ की कसम खाके, हवा चलती है तेरे चेहरे की झलक पा के बहार आती है एक पल भी मेरी नज़रों से जो तू ओझल हो हर तरफ मेरी नज़र तुझको पुकार आती है मेरे भैया मेरे चंदा… तेरे सेहरे की महकती हुई लड़ियों के लिए …

Read More »

Father’s Day Special Hindi Song ऐ मेरे बेटे सुन मेरा कहना

ऐ मेरे बेटे सुन मेरा कहना - साहिर लुधियानवी

ऐ मेरे बेटे, सुन मेरा कहना चाहे दुःख होए, हँसते ही रहना – २ तू मेरे बेटे क्यों रोये, अखियों के मोती क्यों खोये मैं तेरा घोडा मैं हाथी, मैं तेरे सुख दुःख का साथी तेरा मैं सहारा हूँ, मेरा तू सहारा है जान से भी प्यार है आजा आजा ऐ मेरे बेटे, सुन मेरा कहना चाहे दुःख होए, हँसते …

Read More »

तू हिन्दू बनेगा न मुसलमान बनेगा: साहिर लुधियानवी

तू हिन्दू बनेगा न मुसलमान बनेगा: साहिर लुधियानवी

तू हिन्दु बनेगा ना मुसलमान बनेगा इन्सान की औलाद है इन्सान बनेगा। अच्छा है अभी तक तेरा कुछ नाम नहीं है तुझको किसी मजहब से कोई काम नहीं है जिस इल्म ने इंसान को तकसीम किया है उस इल्म का तुझ पर कोई इलज़ाम नहीं है तू बदले हुए वक्त की पहचान बनेगा। मालिक ने हर इंसान को इंसान बनाया …

Read More »

Mukesh Classic Love Song कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है – साहिर लुधियानवी

Mukesh Classic Love Song कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है - साहिर लुधियानवी

कभी कभी मेरे दिल में, ख़याल आता है के जैसे तुझको बनाया गया है मेरे लिये तू अबसे पहले सितारों में बस रही थी कहीं तुझे ज़मीं पे बुलाया गया है मेरे लिये कभी कभी मेरे दिल में, ख़याल आता है कभी कभी मेरे दिल में, ख़याल आता है के ये बदन ये निगाहें मेरी अमानत हैं ये गेसुओं की …

Read More »

चाँद मद्धम है, आसमाँ चुप है – साहिर लुधियानवी

चाँद मद्धम है, आसमाँ चुप है। नींद की गोद में जहां चुप है॥ दूर वादी पे दूधिया बादल, झुक के पर्वत को प्यार करते हैं। दिल में नाकाम हसरतें लेकर, हम तेरा इन्तज़ार करते हैं॥ इन बहारों के साये में आ जा, फिर मोहब्बत जवां रहे न रहे। ज़िन्दगी तेरे नामुरादों पर, कल तलक मेहरबां रहे न रहे॥ रोज की …

Read More »

मेरे नदीम मेरे हमसफ़र उदास न हो – साहिर लुधियानवी

मेरे नदीम मेरे हमसफ़र उदास न हो। कठिन सही  तेरी मंज़िल, मगर उदास न हो॥ कदम कदम पे चट्टानें खडी़ रहें, लेकिन जो चल निकले हैं दरिया तो फिर नहीं रुकते। हवाएँ कितना भी टकराएँ आँधियाँ बनकर, मगर घटाओं के परछम कभी नहीं झुकते। मेरे नदीम मेरे हमसफ़र… हर एक तलाश के रास्ते में मुश्किलें हैं, मगर हर एक तलाश मुरादों …

Read More »