किसान पर अनमोल विचार, शायरी व नारे

किसान पर अनमोल विचार, शायरी व नारे

किसान पर अनमोल विचार, शायरी व नारे [2]

  • चीर देता है धरती सूखता नहीं उसका पसीना,
    आराम के लिए किसान को मिलता नहीं महीना।
  • ये सिलसिला क्या यूँ ही चलता रहेगा,
    सियासत अपनी चालों से कब तक #कृषक को छलता रहेगा।
  • भोले-भाले किसानों को ईश्वर अपने खुले दीदार का दर्शन देता है।
  • जब भोजन की थाली सामने आ जाए,
    तो भोजन के समय ईश्वर को नहीं उस महान किसान को धन्यवाद देना।
  • क्यों ना सजा दी पेड़ काटने वाले शैतान को,
    खुदा तूने सजा दे दी सीधे-साधे किसान को।
  • छत टपकती हैं उसके कच्चे मकान की,
    फिर भी “बारिश” हो जाये, तमन्ना हैं किसान की।
  • घटाएँ उठती हैं बरसात होने लगती है,
    जब आँख भर के फ़लक को किसान देखता है।
  • किस लोभ से किसान आज भी, लेते नही विश्राम हैं,
    घनघोर वर्षा में भी करते निरंतर काम हैं।
  • किसानो की मदद करे, देश के विकास में योगदान करे।
  • चीर के जमीन को, मैं उम्मीद बोता हूँ,
    मैं किसान हूँ, चैन से कहाँ सोता हूँ।
  • कभी ज़िया करो किसान कि जिंदगी…
    लोग महलों में रह कर भी ख़ुद को परेशान कहते है।
  • आजकल शहर के लोगों को इंसान कम कुत्ते ज्यादा प्यारे लगने लगे है।
  • किसान का सम्पूर्ण जीवन प्रकृति से स्थायी सहयोग है।
  • बढ़ रही है कीमतें किसान की उगाई हुई सब्ज़ियों की,
    पर ना जाने कैसे किसान आज भी गरीब का गरीब ही है।
  • किसान की आह जो दिल से निकाली जाएगी,
    क्या समझते हो कि ख़ाली जाएगी।
  • देश की प्रगति है तब तक अधूरी,
    किसान के विकास के बिना न होगी पूरी।
  • तन के कपड़े भी फट जाते है, तब कहीं एक फसल लहलहाती है,
    और लोग कहते है किसान के जिस्म से पसीने की बदबू आती है।
  • बिना गाँव और बिना किसान – किसी भी देश का संपूर्ण होना संभव नहीं है।
  • इस धरती पर अगर किसी को सीना तानकर चलने का अधिकार हो,
    तो वह धरती से धन-धान्य पैदा करने वाले किसान को ही है।
  • ऐ ख़ुदा बस एक ख़्वाब सच्चा दे दे,
    अबकी बरस मानसून अच्छा दे दे…

External Link: Food and Beverage Exhibitions & Conferences

Check Also

Pongal

Pongal Festival Quotes And Messages

Pongal Festival Quotes And Messages: Pongal is a Tamil Nadu regional harvest festival celebrated in …