Tejpal Gulia

दिल्ली देश की शान

दिल्ली देश की शान

सडक पर बसें, गुलाबी, लाल, हरी, हैं, दिल्ली नगर निगम की शान। फिर भी दिल्ली मेट्रो, के बिना, यहां, कभी न चले काम। क्योंकि, सडकों पर पानी भरे, और कारें लगा रही है, जाम। और लोग फुटपाथ को रोक कर, बेच रहे हैं, निम्बू, जामुन, और आम। कर्मचारी, बचा रास्ता, रोक कर, ठेलों पर खडे, खा रहे हैं पान। न …

Read More »

जीवन एक अभिलाषा

Jeewan ki abhilasha

किसकी तुझे परिभाषा दू सबको तू तरसाती। कल कल करती, बलखाती मस्ती में बहे चले जाती। पहाड़ों को चीर तू घाटी उनमे बनातीं। कंकड, पत्थर और मिट्टी अपने मे तू समाती। धूप पड़ें, तेज बहे सरदी में ठिठुर जाती। लेकिन इस जीवन में निरंतर बहे चले जाती।। ना रूकती ना थमती निरंतर बहे चले जाती। तेरे किनारे मिलने लोगों की …

Read More »