Tag Archives: Culture And Traditions Quotes for Students

स्वतंत्रता पर अनमोल वचन विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

स्वतंत्रता से जुड़े कुछ अनमोल वचन

स्वतंत्रता पर अनमोल वचन विद्यार्थियों और बच्चों के लिए: जब कभी भी हम 15 August का नाम सुनते है तो हमारे अन्दर देशभक्ति की लहर दौड़ जाती है और हमारा सीना गर्व से ऊँचा हो जाता है। यह होना स्वाभाविक है क्योंकि 15 अगस्त के दिन ही सन 1947 को हमारा देश अंग्रेजो की गुलामी से आजाद हुआ था। वास्तविक स्वतन्त्रता क्या होती …

Read More »

देशभक्ति उद्धरण विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

Famous Patriotism Hindi Quotes देशभक्ति उद्धरण

देशभक्ति उद्धरण विद्यार्थियों और बच्चों के लिए: देशभक्ति का तात्पर्य अपने देश के साथ प्रेम करना है। यह मानव के हृदय में जलने वाली ईश्वरीय ज्वाला है जो अपनी जन्म भूमि को अन्य सभी से अधिक प्यार करने की शिक्षा देती है। देशभक्त अपने देश के लिए बड़े से बड़े त्याग करने के लिए आतुर रहते हैं और अपनी मातृभूमि के …

Read More »

माँ और मातृत्व पर उद्धरण विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

माँ और मातृत्व पर उद्धरण - Famous Hindi Quotes on Mother & Motherhood

माँ और मातृत्व पर उद्धरण विद्यार्थियों और बच्चों के लिए: माँ एक अनुभूति, एक विश्वास, एक रिश्ता नितांत अपना सा। गर्भ में अबोली नाजुक आहट से लेकर नवागत के गुलाबी अवतरण तक, मासूम किलकारियों से लेकर कड़वे निर्मम बोलों तक, आँगन की फुदकन से लेकर नीड़ से सरसराते हुए उड़ जाने तक, माँ मातृत्व की कितनी परिभाषाएँ रचती है। स्नेह, …

Read More »

Rabindranath Tagore Quotes For Students And Children

Rabindranath Tagore Quotes in English

Rabindranath Tagore Quotes in English: Rabindranath Tagore (7 May 1861 – 7 August 1941), sobriquet Gurudev, was a Bengali polymath who reshaped Bengali literature and music, as well as Indian art with Contextual Modernism in the late 19th and early 20th centuries. Though best known as a poet, Rabindranath Tagore was a man of many aptitudes. The first Indian to win …

Read More »

गौतम बुद्ध के अनमोल विचार विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

Name: Gautam Buddha / भगवान गौतम बुद्ध Birth: 563 BC or 623 BC Lumbini, today in Nepal Died: 483 BC or 543 BC (aged 80) Kushinagar, India गौतम बुद्ध एक श्रमण थे जिनकी शिक्षाओं पर बौद्ध धर्म का प्रचलन हुआ। उनका जन्म लुंबिनी में 563 ईसा पूर्व इक्ष्वाकु वंशीय क्षत्रिय शाक्य कुल के राजा शुद्धोधन के घर में हुआ था। उनकी …

Read More »