क्या भारत का सिस्टम आम जनता को धोखा देता है?

क्या भारत का सिस्टम आम जनता को धोखा देता है?

आप खुद देखिये…

  • नेता चाहे तो 2 सीट से एक साथ चुनाव लड़ सकता है। लेकिन…
    आप दो जगहों पर वोट नहीं डाल सकते।
  • आप जेल मे बंद हो तो वोट नहीं डाल सकते। लेकिन…
    नेता जेल मे रहते हुए चुनाव लड सकता है।
  • आप कभी जेल गये थे, तो अब आपको जिंदगी भर कोई सरकारी नौकरी नहीं मिलेगी, लेकिन…
    नेता चाहे जितनी बार भी हत्या या बलात्कार के मामले में जेल गया हो, वो प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति जो चाहे बन सकता है।
  • बैंक में मामूली नौकरी पाने के लिये आपका ग्रेजुएट होना जरूरी है। लेकिन…
    नेता अंगूठा छाप हो तो भी भारत का फायनेन्स मिनिस्टर बन सकता है।
  • आपको सेना में एक मामूली सिपाही की नौकरी पाने के लिये डिग्री के साथ 10 किलोमीटेर दौड़ कर भी दिखाना होगा। लेकिन…
    नेता यदि अनपढ़-गंवार और लूला-लंगड़ा है तो भी वह आर्मी, नेवी और ऐयर फोर्स का चीफ यानि डिफेन्स मिनिस्टर बन सकता है और जिसके पूरे खानदान में आज तक कोई स्कूल नहीं गया – वो नेता देश का शिक्षा मंत्री बन सकता है और जिस नेता पर हजारों केस चल रहे हों – वो नेता पुलिस डिपार्टमेंट का चीफ यानि कि गृह मंत्री बन सकता है। यदि आपको लगता है की इस सिस्टम को बदल देना चाहिये – नेता और जनता, दोनो के लिये एक ही कानून होना चाहिये… तो इस संदेश को फार्वड करके देश में जागरुकता लाने में अपना सहयोग दें।

Check Also

Human Rights Day - 10 December: Celebration, Theme, Objective

Human Rights Day Information For Students

Human Rights Day (HRD) is commemorated every year all over the world on 10th of …