Proverbs in Hindi

Proverbs in Hindi – हिन्दी कहावतें और मुहावरे – मुहावरे वाक्यांश होते हैं, जिनका प्रयोग क्रिया के रूप में वाक्य के बीच में किया जाता है, जबकि लोकोक्तियाँ स्वतंत्र वाक्य होती हैं, जिनमें एक पूरा भाव छिपा रहता है।

मुहावरा: विशेष अर्थ को प्रकट करने वाले वाक्यांश को मुहावरा कहते है। मुहावरा पूर्ण वाक्य नहीं होता, इसीलिए इसका स्वतंत्र रूप से प्रयोग नहीं किया जा सकता । मुहावरे का प्रयोग करना और ठीक-ठीक अर्थ समझना बड़ा कठिन है,यह अभ्यास से ही सीखा जा सकता है।

कुछ प्रसिद्ध मुहावरे और उनके अर्थ वाक्य में प्रयोग सहित दिए जा रहे है।

  • अपने मुँह मियाँ मिट्ठू बनना — (स्वयं अपनी प्रशंसा करना ) — अच्छे आदमियों को अपने मुहँ मियाँ मिट्ठू बनना शोभा नहीं देता।
  • अक्ल का चरने जाना — (समझ का अभाव होना) — इतना भी समझ नहीं सके,क्या अक्ल चरने गई है?
  • अपने पैरों पर खड़ा होना — (स्वालंबी होना) — युवकों को अपने पैरों पर खड़े होने पर ही विवाह करना चाहिए।
  • अक्ल का दुश्मन — (मूर्ख) — आजकल तुम अक्ल के दुश्मन हो गए हो।
  • अपना उल्लू सीधा करना — (मतलब निकालना) — आजकल के नेता अपना अपना उल्लू सीधा करने के लिए ही लोगों को भड़काते हैं।
  • आँखे खुलना — (सचेत होना) — ठोकर खाने के बाद ही बहुत से लोगों की आँखें खुलती हैं।
  • आँख का तारा — (बहुत प्यारा) — आज्ञाकारी बच्चा माँ-बाप की आँखों का तारा होता है।
  • आँखे दिखाना — (बहुत क्रोध करना) — राम से मैंने सच बातें कह दी, तो वह मुझे आँख दिखाने लगा।
  • आसमान से बातें करना — (बहुत ऊँचा होना) — आजकल ऐसी ऐसी इमारते बनने लगी है, जो आसमान से बातें करती है।
  • ईंट से ईंट बजाना — (पूरी तरह से नष्ट करना) — राम चाहता था कि वह अपने शत्रु के घर की ईंट से ईंट बजा दे।
  • ईंट का जबाब पत्थर से देना — (जबरदस्त बदला लेना) — भारत अपने दुश्मनों को ईंट का जबाब पत्थर से देगा।
  • ईद का चाँद होना — (बहुत दिनों बाद दिखाई देना) — तुम तो दिखाई ही नहीं देते, लगता है कि ईद के चाँद हो गए हो।
  • उड़ती चिड़िया पहचानना — (रहस्य की बात दूर से जान लेना) — वह इतना अनुभवी है कि उसे उड़ती चिड़िया पहचानने में देर नहीं लगती।
  • उन्नीस बीस का अंतर होना — (बहुत कम अंतर होना) — राम और श्याम की पहचान कर पाना बहुत कठिन है, क्योंकि दोनों में उन्नीस- बीस का ही अंतर है।
  • उलटी गंगा बहाना — (अनहोनी हो जाना) — राम इतना गुस्सैल है कि किसी से प्रेम से बात कर ले, तो समझो उलटी गंगा बह जाए।

Check Also

Basant: Yudh – English Poem on Kite Flying

The festival of Basant Panchami is dedicated to Goddess Saraswati who is considered to be …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *