Rabindranath Tagore

रविन्द्रनाथ टैगोर के अनमोल विचार विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

रविन्द्रनाथ टैगोर के अनमोल विचार विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

  • हर एक कठिनाई जिससे आप मुंह मोड़ लेते हैं, एक भूत बन कर आपकी नीद में बाधा डालेगी।
  • जो कुछ हमारा है वो हम तक आता है; यदि हम उसे ग्रहण करने की क्षमता रखते हैं।
  • तथ्य कई हैं पर सत्य एक है।
  • आस्था वो पक्षी है जो सुबह अँधेरा होने पर भी उजाले को महसूस करती है।
  • मंदिर की गंभीर उदासी से बाहर भागकर बच्चे धूल में बैठते हैं, भगवान् उन्हें खेलता देखते हैं और पुजारी को भूल जाते हैं।
  • वो जो अच्छाई करने में बहुत ज्यादा व्यस्त है, स्वयं अच्छा होने के लिए समय नहीं निकाल पाता।
  • मैं एक आशावादी होने का अपना ही संसकरण बन गया हूँ। यदि मैं एक दरवाजे से नहीं जा पाता तो दुसरे से जाऊंगा- या एक नया दरवाजा बनाऊंगा। वर्तमान चाहे जितना भी अंधकारमय हो कुछ शानदार सामने आएगा।
  • मैं सोया और स्वप्न देखा कि जीवन आनंद है। मैं जागा और देखा कि जीवन सेवा है। मैंने सेवा की और पाया कि सेवा आनंद है।
  • यदि आप सभी गलतियों के लिए दरवाजे बंद कर देंगे तो सच बाहर रह जायेगा।
  • कला में व्यक्ति खुद को उजागर करता है कलाकृति को नहीं।
  • हम ये प्रार्थना ना करें कि हमारे ऊपर खतरे न आयें, बल्कि ये करें कि हम उनका सामना करने में निडर रहे।
  • जीवन हमें दिया गया है, हम इसे देकर कमाते हैं।
  • प्रेम अधिकार का दावा नहीं करता, बल्कि स्वतंत्रता देता है।
  • केवल प्रेम ही वास्तविकता है, ये महज एक भावना नहीं है। यह एक परम सत्य है जो सृजन के ह्रदय में वास करता है।
  • संगीत दो आत्माओं के बीच के अनंत को भरता है।

Check Also

Blood Donation Slogans

Blood Donation Slogans For Students & Children

Blood Donation Slogans For Students & Children: Blood donation is a most important social service …