Search Results for: भारत

रब्ब हर साल एहोजी बैसाखी ल्यावे

रब्ब हर साल एहोजी बैसाखी ल्यावे

बैसाखी का अर्थ वैशाख मास की संक्रांति है। यह वैशाख सौर मास का प्रथम दिन होता है। बैसाखी वैशाखी का ही अपभ्रंश है। इस दिन गंगा स्नान का बहुत महत्व है। हरिद्वार और हृषिकेश में बैसाखी पर्व पर भारी मेला लगता है। बैसाखी के दिन सूर्य मेष राशि में संक्रमण करता है । इस कारण इस दिन को मेष संक्रान्ति …

Read More »

ऋतुओं की ऋतू बसंत: सुमित्रानंदन पंत

ऋतुओं की ऋतू बसंत: सुमित्रानंदन पंत

वसंत पञ्चमी या श्रीपंचमी एक हिन्दू त्यौहार है। इस दिन विद्या की देवी सरस्वती की पूजा की जाती है। यह पूजा पूर्वी भारत, पश्चिमोत्तर बांग्लादेश, नेपाल और कई राष्ट्रों में बड़े उल्लास से मनायी जाती है। इस दिन पीले वस्त्र धारण करते हैं। शास्त्रों में बसंत पंचमी को ऋषि पंचमी से उल्लेखित किया गया है, तो पुराणों-शास्त्रों तथा अनेक काव्यग्रंथों …

Read More »

क्यों मो पे रंग की मारी पिचकारी: बहादुर शाह जफर

क्यों मो पे रंग की मारी पिचकारी: बहादुर शाह जफर

वैसे तो होली पूरे भारत में मनाई जाती है पर अलग-अलग सांस्कृतिक अंचलों की होली की अपनी खासियत है। हां, एक बात जो सभी जगहों की होली में सामान्य है, वह है महिलाओं और पुरुषों के बीच रंग खेलने के बहाने अनूठे विनोदपूर्ण और शरारत से भरे प्रसंग। ये प्रसंग शुरू से होली की पहचान से जुड़े रहे हैं। और …

Read More »

रंग बरसे भीगे चुनर वाली: हरिवंश राय बच्चन

रंग बरसे भीगे चुनर वाली: हरिवंश राय बच्चन

सिलसिला 1981 में बनी भारतीय हिन्दी भाषा की रूमानी नाट्य फ़िल्म है। इसका निर्देशन यश चोपड़ा ने किया और इसमें अमिताभ बच्चन, जया बच्चन, रेखा, संजीव कुमार और शशि कपूर मुख्य कलाकार हैं। यह फिल्म उस समय के तीन सितारों अमिताभ-जया-रेखा के वास्तविक जीवन के कथित प्रेम त्रिकोण से बहुत प्रेरित है, जो उस समय के प्रेम प्रसंगों में सबसे …

Read More »

कभी नहीं देखा: हिन्दू-मुस्लिम भाईचारा पर कविता

कभी नहीं देखा

कभी नहीं देखा: हिन्दू-मुस्लिम भाईचारा पर कविता – पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ किसी परिचय के मोहताज नहीं है , वह समाज के उत्थान के लिए निरंतर प्रयास कर रहे हैं। समाज के प्रति उनके योगदान को नकारा नहीं जा सकता। किस प्रकार उन्होंने समाज में हो रही धर्म की हानि तथा , नैतिक मूल्यों का ह्रास तथा धर्म विशेष की उपेक्षा को …

Read More »

होली का रंग: रंग, उत्साह और उमंग का त्यौहार

होली का रंग: रंग, उत्साह और उमंग का त्यौहार

होली का रंग: भारत विभिन्न संस्कृतियों और धर्मों को एक साथ लेकर चलने वाला देश है। यहां हर मौसम में विविध त्यौहार आते हैं जो मिलने-मिलाने का बेहतरीन अवसर प्रदान करते हैं। हर कुछ महीने बाद देश त्यौहारों के रंग में डूबा नजर आता है। वसंत ऋतु अपने साथ देश का सबसे रंगीन त्यौहार “होली” लेकर आता है। होली भारत …

Read More »

World Sparrow Day: व‍िश्‍व गौरया द‍िवस – 20 March

World Sparrow Day: व‍िश्‍व गौरया द‍िवस - 20 March

World Sparrow Day: 20 March The diminutive house sparrow (Passer domesticus) is perhaps one of the earliest birds you can remember from your childhood. Their nests dotted almost every house in the neighborhood as well as public places like bus bays and railway stations, where they lived in colonies and survived on food grains and tiny worms. Many bird watchers …

Read More »

आया फागुन: होली पर्व पर हिंदी बाल-कविता

आया फागुन - होली पर्व पर हिंदी बाल-कविता

आया फागुन: पुराणों के अनुसार, विष्णु भक्त प्रह्लाद से क्रोधित होकर प्रह्लाद के पिता हिरण्यकश्यप ने, पुत्र प्रह्लाद को ब्रह्मा द्वारा वरदान में प्राप्त वस्त्र धारण किए बहन होलिका के गोद में आग से जला देने की मनसा से बैठा दिया। किन्तु प्रभु की महिमा से वह वस्त्र प्रह्लाद को ढ़क लेता है और होलिका जल कर भस्म हो जाती …

Read More »

रंगों के त्यौहार पर बाल-कविता: आई होली

रंगों के त्यौहार पर बाल-कविता: आई होली

आई होली – प्रभा पारीक की बाल-कविता: होली वसंत का त्यौहार है और इसके आने पर सर्दियां खत्म होती हैं। कुछ हिस्सों में इस त्यौहार का संबंध वसंत की फसल पकने से भी है। किसान अच्छी फसल पैदा होने की खुशी में होली मनाते हैं। होली को ‘वसंत महोत्सव’ या ‘काम महोत्सव’ भी कहते हैं। हिरण्यकशिपु की बहन होलिका को …

Read More »

दुनिया रंग-बिरंगी: होली के त्यौहार पर हिंदी बाल-कविता

Holi festival coloring pages

दुनिया रंग-बिरंगी: डॉ फहीम अहमद – भारत में होली का उत्सव अलग-अलग प्रदेशों में अलग अलग तरीके से मनाया जाता है। आज भी ब्रज की होली सारे देश के आकर्षण का बिंदु होती है। लठमार होली जो कि बरसाने की है वो भी काफ़ी प्रसिद्ध है। इसमें पुरुष महिलाओं पर रंग डालते हैं और महिलाएँ पुरुषों को लाठियों तथा कपड़े के …

Read More »