Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » सर्दी – ओम प्रकाश बजाज
सर्दी - ओम प्रकाश बजाज

सर्दी – ओम प्रकाश बजाज

फिर आ गया आ गया जाड़ा,
गर्मी से मिला छुटकारा।

सुहाने लगी सुबह की धुप,
अच्छा लगता गर्म सूप।

किटकिटाते हैं दांत,
और ठिठुरते हैं हाथ।

चलती है ठंडी-ठंडी हवा,
मुंह से निकलता है धुआं।

सर्दी से सब का हाल बेहाल,
फट रहे बच्चों के गाल।

रजाई छोड़ने का मन नहीं होता,
मुंह धोने का भी साहस नहीं होता।

गर्म कपड़ो से सब लदे हुए हैं,
दुबले भी तगड़े बने हैं।

~ ओम प्रकाश बजाज

आपको ओम प्रकाश बजाज जी की कविता “सर्दी” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Labour Day Quiz

Labour Day Quiz

Labour Day Quiz: Labour Day, officially a day designated to celebrate the organized labour movement, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *