Home » Tag Archives: Karma

Tag Archives: Karma

Dilip Kumar – Biography, Bollywood Actor, Film Career

Dilip Kumar - Biography, Bollywood Actor, Film Career

Born: December 11, 1922 (age 94), Peshawar, Pakistan Full name: Muhammed Yusuf Khan Spouse: Asma Rehman (m. 1980–1982), Saira Banu (m. 1966) Dilip Kumar — One of the greatest actors ever to grace the Indian silver screen – Dilip Kumar was a name to reckon with in the Hindi tinsel world in the 50’s and 60’s. His unique style of …

Read More »

Short Hindi Poem about Selfishness शोर

Short Hindi Poem about Selfishness शोर

आज जीवन का ऐसा दौर आया है। हर तरफ इक अजीब मोड़ आया है। आज जीवन का ऐसा… तंगदिल हो गया ज़माना कि अब अपना भी लगे बेगाना, हर तरफ इक अजीब मोड़ आया है। आज जीवन का ऐसा… समय नहीं है, समय नहीं हैं, हर तरफ यहीं शोर छाया है हर तरफ इक अजीब मोड़ आया है आज जीवन …

Read More »

Rajiv Krishna Saxena’s Devotional Hindi Poem मैं ही हूं

Rajiv Krishna Saxena's Devotional Hindi Poem मैं ही हूं

मैं ही हूँ प्रभु पुत्र आपका, चिर निष्ठा से चरणों में नित बैठ नाम का जप करता हूँ मैं हीं सिक्का खरा, कभी मैं ही हूँ खोटा मेरे ही कर्मों का रखते लेखा–जोखा मैं ही गोते खा–खा कर फिर–फिर तरता हूँ चक्र आपका, जी–जी कर फिर–फिर मरता हूँ जीवन की नैया पर, कर्मों के सागर से जूझा मैं ही पाप–पुण्य …

Read More »

What are the basics of the path, or Dharma, that Mahavira advocated for Jains?

What are the basics of the path, or Dharma, that Mahavira advocated for Jains?

Jains believe that non-injury is the highest religion. Jains aim to live in such a way that their jiva (soul) doesn’t get any more karma, and so that the karma it already has is either eliminated or helped to decay. They do this by following a disciplined life path. The path or Dharma (truth, teaching) that Mahavira advocated was one …

Read More »

Lord Mahavir Sayings in English

Lord Mahavir Sayings in English

Mahavira, also known as Vardhamana, was the twenty-fourth and last Jain Tirthankara (Teaching God). Mahavira is often called the founder of Jainism, but this was not the case because the Jain tradition recognizes his predecessors. Mahavira was born into a royal family in what is now Bihar, India, in either 599 BC or 480 BC. At the age of 30, …

Read More »

अपराध – नसीम अख्तर

अपराध - नसीम अख्तर

संकरी, अंधेरी गीली गीली गलियों के दड़बेनुमा घरों की दरारों से आज भी झांकते हैं डर भरी आंखों और सूखे होंठों वाले मुरझाए, पीले निर्भाव, निस्तेज चेहरे जिन का एक अलग संसार है और है एक पूरी पीढ़ी जो सदियों से भोग रही है उन कर्मों का दंड जो उन्होंने किए ही नहीं अनजाने ही हो जाता है उन से …

Read More »

Take 2 – 50 Films That Deserve a New Audience – Deepa Gahlot

Take 2 - 50 Films That Deserve a New Audience - Deepa Gahlot

Publisher: Hays House Publishers India Pages: 312 Price: Rs.399 Can you recall the first Bollywood film stressing communal harmony and tolerance by showing diverse people staying together despite vested interests trying to divide them? (It was Dev Anand‘s debut). Two where everything happens in one eventful, adventurous night? (They starred Waheeda Rehman and Madhubala). The first (and possibly only) mainstream …

Read More »

Paryushan Parva

Paryushan Parva

Paryushan Parva is the king of all festivals and hence is known as Parvadhiraj. Parvadhiraj Paryushana, this festival has the highest power of doing auspicious to the worshippers. This festival takes the soul to the upper condition. It lights the lamps of life i.e. pious life. This festival also shows the path of salvation. It is compared with water works …

Read More »

अपनाएं भगवान बुद्ध की शिक्षाएं

teachings-of-lord-buddha

सम्यक दृष्टि: सम्यक दृष्टि का अर्थ है कि जीवन में हमेशा सुख-दुख आता रहता है। हमें अपने नजरिए को सही रखना चाहिए अगर दुख है तो उसे दूर भी किया जा सकता है। सम्यक संकल्प: इसका अर्थ है कि जीवन में जो काम करने योग्य है, जिससे दूसरों का भला होता है। हमें उसे करने का संकल्प लेना चाहिए और …

Read More »

भीष्म पितामह की मृत्यु

भीष्म पितामह की मृत्यु

हिन्दुओं का एक प्रमुख काव्य ग्रंथ महाभारत जो स्मृति वर्ग में आता है। प्राचीन महाभारत काल की बात है जब महाभारत के युद्ध में जो कुरुक्षेत्र के मैंदान में हुआ, जिसमें अठारह अक्षौहणी सेना मारी गई, इस युद्ध के समापन और सभी मृतकों को तिलांज्जलि देने के बाद पांडवों सहित भगवान श्री कृष्ण पितामह भीष्म से आशीर्वाद लेकर हस्तिनापुर को …

Read More »