Home » Tag Archives: Gulal

Tag Archives: Gulal

होली विशेष हिंदी बाल-कविता: हो हल्ला है होली है

होली विशेष हिंदी बाल-कविता: हो हल्ला है होली है

उड़े रंगों के गुब्बारे हैं, घर आ धमके हुरयारे हैं। मस्तानों की टोली है, हो हल्ला है, होली है। मुंह बन्दर सा लाल किसी का, रंगा गुलाबी भाल किसी का। कोयल जैसे काले रंग का, पड़ा दिखाई गाल किसी का। काना फूसी कुछ लोगों में, खाई भांग की गोली है। ढोल ढमाका ढम ढम ढम ढम, नाचे कूदे फूल गया …

Read More »

Holi Festival Images for Facebook, WhatsApp

Holi Festival Images

Colorful Holi Festival images to reflect the verve, gaiety, enthusiasm and to create some wonderful memories. Holi pictures depict the importance of the festival and creates a special feeling. You may choose from our stupendous Holi image gallery and add flavor to your festival celebrations. Holi Festival Images for WhatsApp, Instagram & Facebook

Read More »

दुनिया रंग-बिरंगी Holi Special Children’s Poetry

दुनिया रंग-बिरंगी Holi Special Children's Poetry

नीले, पीले और गुलाबी लाल, हरे, नारंगी, हुई रंगों से देखो सारी दुनिया रंग-बिरंगी। गालों पर गुलाल की रंगत रंग बिखेरे सूंदर, दौड़ रहे लेकर पिचकारी रामु, श्यामू, चंदर। बांट रही हैं गुझिया सबको मीठी खुशियां प्यारी, होली की मस्ती में देखो हँसती दुनिया सारी। भांति-भांति के रंग भरे सब मार रहे पिचकारी, रंग-बिरंगे लोग लग रहे ज्यो सूंदर फुलवारी। …

Read More »

Holi Special Hindi Filmi Song अरे जा रे हट नटखट

अरे जा रे हट नटखट - नवरंग

चि: धागिन धिनक धिन धागिन धिनक धिन धागिन धिनक धिन अटक-अटक झटपट पनघट पर चटक मटक इक नार नवेली गोरी गोरी ग्वालन की छोरी चली चोरी चोरी मुख मोरी मोरी मुसकाये अलबेली कँकरी गले में मारी कंकरी कन्हैया ने पकरी बाँह और की अटखेली भरी पिचकारी मारी स र र र र र र र र र भोली पनिहारी बोली …

Read More »

आया है फागुन – डॉ. सरस्वती माथुर

Holi festival coloring pages

मेहन्दी के रंग लिए आया है फागुन शहरों गाँवौ में छाया है फागुन। जीवन में रस टटोल रहा फागुन पनघट चौपालों में था डोल रहा फागुन। रंगों में डूबे हैं संगी साथी भांग सांसों मे घोल रहा फागुन। तितली के रंग लिए आया है फागुन रक्तिम टेसू रंगों से पलाशी बारिश बरसा रहा फागुन। होली के रंग संग गुलालों के …

Read More »

Happy Holi: English poem on Holi Festival

Happy Holi

The trees smile with their sprout of tender leaves and blooming flowers, Eternal nature with its transient expressions Hails spring with ecstasy and joy! Bewildering shades with so many tinge. The land of beauty and greatness, India, witnessing color of happiness and peace Nation come alive to enjoy the spirit A celebration of color – Holi! An experience of content, …

Read More »

मल दे गुलाल मोहे आई होली आई रे – इन्दीवर

मल दे गुलाल मोहे आई होली आई रे- इन्दीवर

लता मंगेशकर: मल दे गुलाल मोहे -२ आई होली आई रे -२ किशोर कुमार: चुनरी पे रंग सोहे -२ आई होली आई रे -२ ल: सात रंग सात फूल आज मिले साथ रे कि: बजने लगी बाँसुरी जमने लगी बात रे ल : ओ भीगी-भीगी पवन सारी रे -२ आई होली आई रे -२ मल दे गुलाल मोहे… आज कोई …

Read More »

दिन होली के – यतीन्द्र राही

दिन होली के - यतीन्द्र राही

गीत फाग के, दिन मस्ती के उलझन-झिड़क ज़बरदस्ती के बौरे-बहके-गंधनशीले रूप दहकते रंग गरबीले धरते पाँव सँवार झूमते जैसे हों कहार डोली के दिन होली के। टिमकी ढोलक, बजे मंजीरे ताल-स्वरों के चरन अधीरे ढप पर थाप, झाँझ पर झोके मन मचले, रोके ना रोके नचती राधा हुई बावरी कान्हा कहीं किसी टोली के दिन होली के। उड़त गुलाल लाल …

Read More »

होली आई रे होली आई रे 3 Short Poems on Holi Festival

होली आई रे होली आई रे 3 Short Poems on Holi Festival

होली आई रे बसंत में हर कली मुस्कुराई, फागुन की मस्ती चंहुओर है छाई, मदभरा रंगीं नजारा हर कहीं नजर आता है, सुनहरा रंग फिजाओं में पसर जाता है, चंग की ढाप चौक-चौराहों में गूंज रही है, फागणियों को फाग गाने की सूझ रही है, लोग-लुगाई होली की मस्ती में सराबोर हैं, हर तरफ होली आई रे होली आई रे …

Read More »

Holi in Manipur, Yaosang Festival & Thabal Chongba Dance

Holi in Manipur, Yaosang Festival & Thabal Chongba Dance

It is interesting to note how Holi is celebrated in Manipur. Here, the festivities continue for six days starting on the full moon day of Phalguna. It may also be noted that the traditional and the centuries old Yaosang festival of Manipur amalgamated with Holi with the introduction of Vaishnavism in the eighteenth century. Besides, there is also a tradition …

Read More »