Home » Tag Archives: 26 January

Tag Archives: 26 January

Beating Retreat Images For Facebook, WhatsApp

Beating Retreat Images

Beating Retreat Images For Facebook, WhatsApp: Beating Retreat denotes the end of Republic Day festivities. It is conducted on the evening of 29 January, the third day after the Republic Day. It is performed by the bands of the three wings of the military, the Indian Army, Indian Navy and Indian Air Force, and pipe bands from the Army, plus …

Read More »

26 January – Republic Day Images

26 January – Republic Day Images

26 January – Republic Day Images: Republic Day is a national holiday that is celebrated every year with immense zeal and enthusiasm. The Constitution of India was enforced on 26th January, 1950 marking a historical moment in the Indian history. Hence, this day is honored with great joy, pride and vigor across the country as India was also declared a …

Read More »

26 January – Republic Day Greetings

26 January - Republic Day Greetings

26 January – Republic Day Greetings: Republic Day marks the adoption of the Constitution of India and the transition of India into a republic nation on 26th January, 1950. One of the three national holidays of India, this day is celebrated with true spirit of patriotism and brotherhood in our hearts. While the President hoists the flag in the capital, …

Read More »

गणतंत्र पर कुछ अनमोल विचार Republic Day Quotes in Hindi

गणतंत्र पर कुछ अनमोल विचार

गणतंत्र पर कुछ अनमोल विचार: गणतन्त्र दिवस भारत का एक राष्ट्रीय पर्व जो प्रति वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है। इसी दिन सन १९५० को भारत का संविधान लागू किया गया था। एक स्वतंत्र गणराज्य बनने और देश के संक्रमण को पूरा करने के लिए, 26 नवम्बर 1949 को भारतीय संविधान सभा द्वारा इस संविधान को अपनाया गया और 26 …

Read More »

Informative Videos For Kids

Informative Videos For Kids

Tribute To The Unsung Heroes Who Are The Real Reason Behind Our Happy Diwali  It’s that time of the year when the air is redolent with the spirit of festivities. People are decorating their houses in a thousand creative ways, indulging in some last minute gift shopping, and eagerly waiting for the Diwali holidays to begin. While we are busy …

Read More »

हम सब सुमन एक उपवन के – द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

हम सब सुमन एक उपवन के - द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

हम सब सुमन एक उपवन के एक हमारी धरती सबकी, जिसकी मिट्टी में जन्मे हम। मिली एक ही धूप हमें है, सींचे गए एक जल से हम। पले हुए हैं झूल-झूल कर, पलनों में हम एक पवन के। हम सब सुमन एक उपवन के॥ रंग रंग के रूप हमारे, अलग-अलग है क्यारी-क्यारी। लेकिन हम सबसे मिलकर ही, इस उपवन की शोभा सारी। एक हमारा माली …

Read More »

Village Boy Who Changed Schoolmaster’s Mindset भीकू और मास्टरजी

Village Boy Who Changed Schoolmaster's Mindset भीकू और मास्टरजी

रामपुर गावं में एक स्कूल था। आसपास के बच्चे वही पढ़ने आया करते थे। वहां एक ही मास्टरजी थे, जो प्रधानाचार्य से लेकर चपरासी का काम बखूबी करते थे। क्योंकि उस गाँव में बिजली एवं पानी के घोर संकट के चलते जो भी शहर से आता था, वह उलटे पाँव भाग जाता था। मास्टरजी को बच्चे से लेकर बूढ़े तक …

Read More »

Gopal Prasad Vyas Inspirational Patriotic Hindi Poem खूनी हस्‍ताक्षर

Gopal Prasad Vyas Inspirational Patriotic Hindi Poem खूनी हस्‍ताक्षर

Neta Ji Subhash Chandra Bose organized the Indian National Army in early 1940s to fight the foreign occupation of the country. He promised freedom for the country but demanded full dedication of the people to this end. I am thankful to an unnamed reader who sent me a scanned copy of this lovely poem. This is a remarkable poem that …

Read More »

आखिर 26 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है गणतंत्र दिवस?

आखिर 26 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है गणतंत्र दिवस?

आज पूरा भारत 67वां रिपब्लिक डे मना रहा है। राजपथ पर आज के दिन भारत के राष्ट्रपति तिरंगा फहराते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं यह 26 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है? पहली बार राष्ट्रीय ध्वज कहां फहराया था? तो आइए हम आपको बताते हैं कि रिपब्लिक डे के बारे में कुछ ऐसे फैक्ट्स जो शायद ही आप …

Read More »

बढ़े चलो, बढ़े चलो – सोहनलाल द्विवेदी

बढ़े चलो, बढ़े चलो - सोहन लाल द्विवेदी

न हाथ एक शस्त्र हो, न हाथ एक अस्त्र हो, न अन्न वीर वस्त्र हो, हटो नहीं, डरो नहीं, बढ़े चलो, बढ़े चलो रहे समक्ष हिम-शिखर, तुम्हारा प्रण उठे निखर, भले ही जाए जन बिखर, रुको नहीं, झुको नहीं, बढ़े चलो, बढ़े चलो घटा घिरी अटूट हो, अधर में कालकूट हो, वही सुधा का घूंट हो, जिये चलो, मरे चलो, …

Read More »