Home » Tag Archives: 15 August 1947

Tag Archives: 15 August 1947

15 August Greetings

15 August Greetings

15 August Greetings: Independence Day, celebrate annually on 15 August, is a National Holiday in India commemorating the nation’s independence from the British Empire on 15 August 1947. India attained independence following an Independence Movement noted for largely nonviolent resistance and civil disobedience led by the Indian National Congress (INC). Independence coincided with the partition of India, in which the British …

Read More »

15 August Facebook Covers

15 August Facebook Covers

15 August Facebook Covers: Independence Day, observed annually on 15 August, is a National Holiday in India commemorating the nation’s independence from the British Empire on 15 August 1947. India attained independence following an Independence Movement noted for largely nonviolent resistance and civil disobedience led by the Indian National Congress (INC). Independence coincided with the partition of India, in which …

Read More »

पुण्य पर्व पन्द्रह अगस्त – शिवमंगल सिंह ‘सुमन’

पुण्य पर्व पन्द्रह अगस्त - शिवमंगल सिंह ‘सुमन’

युग-युग की शांति अहिंसा की, लेकर प्रयोग गरिमा समस्त, इतिहास नया लिखने आया, यह पुण्य पर्व पन्द्रह अगस्त। पन्द्रह अगस्त त्योहार, राष्ट्र के चिरसंचित अरमानों का पन्द्रह अगस्त त्योहार, अनगिनित मूक-मुग्ध बलिदानों का। जो पैगम्बर पददलित देश का, शीश उठाने आया था आजन्म फकीरी ले जिसने, घर-घर में अलख जगाया था। भूमण्डल में जिसकी सानी का, मनुज नहीं जन्मा दूजा …

Read More »

15 अगस्त – मीनाक्षी भालेराव

15 अगस्त - मीनाक्षी भालेराव

जब-जब पन्द्रह अगस्त आता है, मन आंगन में रस बरसाता है। मन में नये अहसास नई उमंगें जगाता है, वीरों के गुणगान गाता है। जब-जब वीर रस बरसता है तब-तब जीवन फिर, मधुमास बन जाता है। प्रतिध्वनियों सा बज कर सोये वीरों को जगाता है। भारत माँ की शान में जीना-मरना सिखलाता है। वीरों का कोलाहल मन में देश प्रेम …

Read More »

15 अगस्त 1947 – शील

15 अगस्त 1947 - शील

आज देश मे नई भोर है – नई भोर का समारोह है। आज सिन्धु-गर्वित प्राणों में उमड़ रहा उत्साह मचल रहा है नए सृजन के लक्ष्य बिन्दु पर कवि के मुक्त छन्द-चरणों का एक नया इतिहास। आज देश ने ली स्वंत्रतता आज गगन मुस्काया। आज हिमालय हिला पवन पुलके सुनहली प्यारी-प्यारी धूप। आज देश की मिट्टी में बल उर्वर साहस …

Read More »