Home » Quotations » Famous Hindi Quotes » डॉ. बी. आर. अम्बेडकर के अनमोल वचन
Bhimrao Ambedkar

डॉ. बी. आर. अम्बेडकर के अनमोल वचन

भीमराव रामजी आंबेडकर (14 अप्रैल, १८९१ – ६ दिसंबर, १९५६) बाबा साहेब के नाम से लोकप्रिय, भारतीय विधिवेत्ता, अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ और समाजसुधारक थे। उन्होंने दलित बौद्ध आंदोलन को प्रेरित किया और दलितों के खिलाफ सामाजिक भेद भाव के विरुद्ध अभियान चलाया। श्रमिकों और महिलाओं के अधिकारों का समर्थन किया। वे स्वतंत्र भारत के प्रथम कानून मंत्री एवं भारतीय संविधान के प्रमुख वास्तुकार थे। आंबेडकर विपुल प्रतिभा का छात्र थे। उन्होंने कोलंबिया विश्वविद्यालय और लन्दन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स दोनों ही विश्वविद्यालयों से अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने विधि, अर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञानं के शोध कार्य में ख्याति प्राप्त की जीवन के प्रारम्भिक करियर में वह अर्थशास्त्र के प्रोफेसर रहे एवम वकालत की। बाद का जीवन राजनीतिक गतिविधियों में बीता। 1956 में उन्होंने बौद्ध धर्म अपना लिया। 1990 में, भारत रत्न, भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान मरणोपरांत अम्बेडकर पर सम्मानित किया गया था।

  • A great man is different from an eminent one in In that he is ready to be the servant of the society.
    एक  महान  आदमी  एक  प्रतिष्ठित  आदमी  से  इस  तरह  से  अलग  होता  है  कि  वह  समाज  का  नौकर  बनने  को  तैयार  रहता  है.
  • People and their religion must be judged by social standards based on social ethics. No other standard would have any meaning if religion is held to be necessary good for the well-being of the people.
    लोग  और  उनके  धर्म  सामाजिक मानकों  द्वारा;  सामजिक  नैतिकता  के  आधार  पर  परखे  जाने  चाहिए. अगर धर्म  को  लोगो  के  भले  के  लिए  आवशयक  मान  लिया  जायेगा तो  और किसी  मानक  का  मतलब नहीं  होगा.
  • Cultivation of mind should be the ultimate aim of human existence.
    बुद्धि  का   विकास  मानव  के  अस्तित्व  का  अंतिम  लक्ष्य   होना  चाहिए.
  • Every man who repeats the dogma of Mill that one country is no fit to rule another country must admit that one class is not fit to rule another class.
    हर  व्यक्ति  जो  मिल  के  सिद्धांत  कि  एक  देश  दूसरे  देश  पर  शाशन  नहीं  कर  सकता  को  दोहराता  है  उसे  ये  भी स्वीकार  करना  चाहिए  कि  एक  वर्ग  दूसरे  वर्ग  पर  शाशन  नहीं  कर  सकता.
  • For a successful revolution it is not enough that there is discontent. What is required is a profound and thorough conviction of the justice, necessity and importance of political and social rights.
    एक  सफल  क्रांति  के लिए  सिर्फ  असंतोष  का  होना  पर्याप्त  नहीं  है. जिसकी  आवश्यकता   है  वो  है  न्याय  एवं   राजनीतिक  और  सामाजिक  अधिकारों  में  गहरी  आस्था.
  • History shows that where ethics and economics come in conflict, victory is always with economics. Vested interests have never been known to have willingly divested themselves unless there was sufficient force to compel them.
    इतिहास  बताता  है  कि  जहाँ  नैतिकता  और  अर्थशाश्त्र   के  बीच  संघर्ष  होता  है  वहां  जीत  हमेशा  अर्थशाश्त्र   की  होती  है . निहित  स्वार्थों   को  तब  तक  स्वेच्छा  से  नहीं  छोड़ा   गया  है  जब  तक  कि  मजबूर  करने  के  लिए  पर्याप्त  बल  ना  लगाया  गया  हो.
  • I like the religion that teaches liberty, equality and fraternity.
    मैं  ऐसे  धर्म  को  मानता  हूँ  जो  स्वतंत्रता , समानता , और  भाई -चारा  सीखाये.
  • I measure the progress of a community by the degree of progress which women have achieved.
    मैं  किसी  समुदाय  की  प्रगति  महिलाओं  ने  जो  प्रगति  हांसिल  की  है  उससे  मापता  हूँ.
  • In Hinduism, conscience, reason and independent thinking have no scope for development.
    हिंदू धर्म में, विवेक, कारण, और स्वतंत्र सोच के विकास के लिए कोई गुंजाइश नहीं है.
  • Indians today are governed by two different ideologies. Their political ideal set in the preamble of the Constitution affirms a life of liberty, equality and fraternity. Their social ideal embodied in their religion denies them.
    आज  भारतीय  दो  अलग -अलग  विचारधाराओं  द्वारा  शाशित  हो  रहे  हैं. उनके  राजनीतिक  आदर्श  जो  संविधान  के  प्रस्तावना  में  इंगित  हैं  वो  स्वतंत्रता, समानता, और  भाई -चारे  को स्थापित  करते  हैं. और  उनके  धर्म  में  समाहित  सामाजिक  आदर्श  इससे  इनकार  करते  हैं.
  • Law and order are the medicine of the body politic and when the body politic gets sick, medicine must be administered.
    क़ानून  और  व्यवस्था  राजनीतिक  शरीर  की  दवा  है  और  जब  राजनीतिक  शरीर  बीमार  पड़े  तो  दवा  ज़रूर  दी  जानी  चाहिए.
  • Life should be great rather than long.
    जीवन  लम्बा  होने  की  बजाये  महान  होना  चाहिए.
  • Men are mortal. So are ideas. An idea needs propagation as much as a plant needs watering. Otherwise both will wither and die.
    मनुष्य  नश्वर  है. उसी  तरह  विचार  भी  नश्वर  हैं. एक  विचार  को  प्रचार -प्रसार  की   ज़रुरत  होती  है, जैसे  कि  एक  पौधे  को  पानी  की. नहीं  तो  दोनों  मुरझा  कर  मर  जाते हैं.
  • Political tyranny is nothing compared to the social tyranny and a reformer who defies society is a more courageous man than a politician who defies Government.
    राजनीतिक  अत्याचार  सामाजिक  अत्याचार  की  तुलना  में  कुछ  भी  नहीं  है  और  एक  सुधारक  जो  समाज  को  खारिज  कर  देता  है  वो   सरकार  को  ख़ारिज  कर  देने  वाले   राजनीतिज्ञ  से  कहीं अधिक  साहसी  हैं.
  • So long as you do not achieve social liberty, whatever freedom is provided by the law is of no avail to you.
    जब  तक  आप  सामाजिक  स्वतंत्रता  नहीं  हांसिल  कर  लेते  , क़ानून  आपको  जो भी  स्वतंत्रता  देता  है  वो  आपके  किसी  काम  की  नहीं.
  • The relationship between husband and wife should be one of closest friends.
    पति- पत्नी  के  बीच  का  सम्बन्ध   घनिष्ट  मित्रों  के  सम्बन्ध   के  सामान  होना  चाहिए.
  • The sovereignty of scriptures of all religions must come to an end if we want to have a united integrated modern India.
    यदि  हम  एक   संयुक्त  एकीकृत  आधुनिक  भारत  चाहते  हैं  तो  सभी  धर्मों  के  शाश्त्रों  की  संप्रभुता  का  अंत  होना  चाहिए.
  • Unlike a drop of water which loses its identity when it joins the ocean, man does not lose his being in the society in which he lives. Man’s life is independent. He is born not for the development of the society alone, but for the development of his self.
    सागर  में  मिलकर  अपनी  पहचान  खो  देने  वाली  पानी  की  एक  बूँद  के  विपरीत, इंसान  जिस  समाज  में  रहता  है  वहां  अपनी  पहचान  नहीं  खोता. इंसान  का  जीवन  स्वतंत्र  है. वो  सिर्फ  समाज  के  विकास  के  लिए  नहीं  पैदा  हुआ   है, बल्कि  स्वयं  के  विकास  के  लिए  पैदा  हुआ है.
  • We are Indians, firstly and lastly.
    हम  भारतीय  हैं, पहले  और अंत  में.
  • What are we having this liberty for? We are having this liberty in order to reform our social system, which is full of inequality, discrimination and other things, which conflict with our fundamental rights.
    हमारे  पास  यह  स्वतंत्रता  किस  लिए  है? हमारे  पास  ये  स्वत्नत्रता  इसलिए  है  ताकि  हम  अपने  सामाजिक  व्यवस्था, जो  असमानता, भेद-भाव  और  अन्य   चीजों  से  भरी  है, जो  हमारे  मौलिक  अधिकारों  से  टकराव  में  है  को  सुधार  सकें.

Check Also

Kamika Ekadashi - Hindu Festival

2018 Kamika Ekadashi – Hindu Festival

Kamika Ekadashi, like any other ekadashi is considered to be an auspicious day to worship …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *