Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » यदि – ओम प्रकाश बजाज
यदि - ओम प्रकाश बजाज

यदि – ओम प्रकाश बजाज

Surajसोचो ज़रा यदि सूरज दादा
किसी दिन ड्यूटी पर न आते।

बहाना बना कर तुम्हारी तरह
वह भी छुट्टी मनाते।

दिन में भी अन्धेरा छा जाता
हाथ को हाथ सुझाई न देता।

संसार के सारे काम रुक जाते
समय का भी तो भान न होता।

अपनी ड्यूटी के पक्के सारे
सूरज चाँद और तारे।

इनसे सीखो तुम भी निभाना
नियमपूर्वक अपने कर्त्तव्य सारे।

∼ ओम प्रकाश बजाज

Check Also

स्कूल ना जाने की हठ पर एक बाल-कविता: माँ मुझको मत भेजो शाला

स्कूल ना जाने की हठ पर एक बाल-कविता: माँ मुझको मत भेजो शाला

अभी बहुत ही छोटी हूँ मैं, माँ मुझको मत भेजो शाळा। सुबह सुबह ही मुझे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *