Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » Harivansh Rai Bachchan’s Poem about Love & Frustration तब रोक न पाया मैं आँसू
Harivansh Rai Bachchan's Poem about Love & Frustration तब रोक न पाया मैं आँसू

Harivansh Rai Bachchan’s Poem about Love & Frustration तब रोक न पाया मैं आँसू

जिसके पीछे पागल हो कर
मैं दौड़ा अपने जीवन भर,
जब मृगजल में परिवर्तित हो, मुझ पर मेरा अरमान हँसा!
तब रोक न पाया मैं आँसू!

जिसमें अपने प्राणों को भर
कर देना चाहा अजर–अमर,
जब विस्मृति के पीछे छिपकर, मुझ पर वह मेरा गान हँसा!
तब रोक न पाया मैं आँसू!

मेरे पूजन आराधन को,
मेरे संपूर्ण समर्पण को,
जब मेरी कमज़ोरी कहकर, मुझ पर मेरा पाषाण हँसा!
तब रोक न पाया मैं आँसू!

~ हरिवंश राय बच्चन

आपको “हरिवंश राय बच्चन” जी की यह कविता “तब रोक न पाया मैं आँसू” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Collection of Nida Fazli Couplets निदा फाजली के दोहे 2

Collection of Nida Fazli Couplets निदा फाजली के दोहे 2

मैं भी तू भी यात्री, आती जाती रेल अपने अपने गाँव तक, सब का सब …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *