Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » सम्पूर्ण यात्रा – दिविक रमेश

सम्पूर्ण यात्रा – दिविक रमेश

Faces of Hillsप्यास तो तुम्हीं बुझाओगी नदी
मैं तो सागर हूँ
प्यासा
अथाह।

तुम बहती रहो
मुझ तक आने को।
मैं तुम्हें लूँगा नदी
सम्पूर्ण।

कहना तुम पहाड़ से
अपने जिस्म पर झड़ा
सम्पूर्ण तपस्वी पराग
घोलता रहे तुममें।

Sailingतुम सूत्र नहीं हो नदी न ही सेतु
सम्पूर्ण यात्रा हो मुझ तक
जागे हुए देवताओं की चेतना हो तुम।

तुम सृजन हो
चट्टानी देह का।
प्यास तो तुम्ही बुझाओगी नदी।

मैं तो सागर हूँ
प्यासा
अथाह।

∼ डॉ. दिविक रमेश

Check Also

When will the Oceans of the Earth Overflow?

When will the Oceans of the Earth Overflow?

Try this out. Plug the sink and leave the water running. It will lead to …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *