Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » रश्मिरथी – रामधारी सिंह दिनकर

रश्मिरथी – रामधारी सिंह दिनकर

रश्मिरथी, जिसका अर्थ “सूर्य का सारथी” है, हिन्दी के महान कवि रामधारी सिंह दिनकर द्वारा रचित प्रसिद्ध खण्डकाव्य है। इसमें ७ सर्ग हैं।

रश्मिरथी अर्थात वह व्यक्ति, जिसका रथ रश्मि अर्थात सूर्य की किरणों का हो। इस काव्य में रश्मिरथी नाम कर्ण का है क्योंकि उसका चरित्र सूर्य के समान प्रकाशमान है।

कर्ण महाभारत महाकाव्य का अत्यन्त यशस्वी पात्र है। उसका जन्म पाण्डवों की माता कुन्ती के गर्भ से उस समय हुआ जब कुन्ती अविवाहिता थीं, अतएव, कुन्ती ने लोकलज्जा से बचने के लिए, अपने नवजात शिशु को एक मंजूषा में बन्द करके नदी में बहा दिया। वह मंजूषा अधिरथ नाम के सुत को मिली। अधिरथ के कोई सन्तान नहीं थी। इसलिए, उन्होंने इस बच्चे को अपना पुत्र मान लिया। उनकी धर्मपत्नी का नाम राधा था। राधा से पालित होने के कारण ही कर्ण का एक नाम राधेय भी है।

कौरव-पाण्डव का वंश परिचय यह है कि दोनों महाराज शान्तनु के कुल में उत्पन्न हुए। शान्तनु से कई पीढ़ी ऊपर महाराज कुरु हुए थे। इसलिए, कौरव-पाण्डव दोनों कुरुवंशी कहलाते हैं। शान्तनु का विवाह गंगाजी से हुआ था, जिनसे कुमार देवव्रत उत्पन्न हुए। यही देवव्रत भीष्म कहलाये, क्योंकि चढ़ती जवानी में ही इन्होंने आजीवन ब्रह्मचारी रहने की भीष्म अथवा भयानक प्रतिज्ञा की थी। महाराज शान्तनु ने निषाद-कन्या सत्यवती से भी विवाह किया था, जिससे उन्हें चित्रांगद और विचित्रवीर्य दो पुत्र हुए। चित्रांगद कुमारावस्था में ही एक युद्ध में मारे गये। विचित्रवीर्य के अम्बिका और अम्बालिका नाम की दो पत्नियां थीं, किन्तु, क्षय रोग हो जाने के कारण विचित्रवीर्य भी निःसंतान ही मरे।

ऐसी अवस्था में वंश चलाने के लिए सत्यवती ने व्यासजी को आमन्त्रित किया। व्यासजी ने नियोग-पद्घति से विचित्रवीर्य की दोनों विधवा पत्नियों से पुत्र उत्पन्न किये। अम्बिका से धृतराष्ट्र और अम्बालिका से पाण्डु जन्मे। मातृ-दोष से धृतराष्ट्र जन्म से ही अन्धे और पाण्डु पीलिया के रोगी थे। अतएव, अम्बिका की प्रेरणा से व्यासजी ने उसकी दासी से तीसरा पुत्र उत्पन्न किया जिसका नाम विदुर हुआ।

राजा धृतराष्ट्र के सौ पुत्र एक ही पत्नी महारानी गन्धारी से हुए थे। महाराज पाण्डु के दो पत्नियां थीं, एक कुन्ती, दूसरी माद्री। परन्तु, ऋषि से मिले शाप के कारण वे स्त्री-समागम से विरत थे। अतएव, कुन्ती ने अपने पति की आज्ञा से तीन पुत्र तीन देवताओं से प्राप्त किये। जैसे कुमारावस्था में कुन्ती ने सूर्य-समागम से कर्ण को उत्पन्न किया था, उसी प्रकार; विवाह होने पर उसने धर्मराज से युधिष्ठिर, पवनदेव से भीम और इन्द्र से अर्जुन को उत्पन्न किया। माद्री के एक ही गर्भ से दो पुत्र हुए, एक नकुल, दूसरे सहदेव- ये दोनों भाई भी महाराज पाण्डु के अंश नहीं, दो अश्विनीकुमारों के अंश से थे। पाण्डु के मरने पर माद्री सती हो गयीं और पाँचों पुत्रों के पालन का भार कुन्ती पर पड़ा। माद्री महाराज शल्य की बहन थीं।

प्रथम सर्ग

  • रश्मिरथी : प्रथम सर्ग – भाग 1
  • रश्मिरथी : प्रथम सर्ग – भाग 2
  • रश्मिरथी : प्रथम सर्ग – भाग 3
  • रश्मिरथी : प्रथम सर्ग – भाग 4
  • रश्मिरथी : प्रथम सर्ग – भाग 5
  • रश्मिरथी : प्रथम सर्ग – भाग 6
  • रश्मिरथी : प्रथम सर्ग – भाग 7

द्वितीय सर्ग

  • रश्मिरथी : द्वितीय सर्ग – भाग 1
  • रश्मिरथी : द्वितीय सर्ग – भाग 2
  • रश्मिरथी : द्वितीय सर्ग – भाग 3
  • रश्मिरथी : द्वितीय सर्ग – भाग 4
  • रश्मिरथी : द्वितीय सर्ग – भाग 5
  • रश्मिरथी : द्वितीय सर्ग – भाग 6
  • रश्मिरथी : द्वितीय सर्ग – भाग 7
  • रश्मिरथी : द्वितीय सर्ग – भाग 8
  • रश्मिरथी : द्वितीय सर्ग – भाग 9
  • रश्मिरथी : द्वितीय सर्ग – भाग 10
  • रश्मिरथी : द्वितीय सर्ग – भाग 11
  • रश्मिरथी : द्वितीय सर्ग – भाग 12
  • रश्मिरथी : द्वितीय सर्ग – भाग 13

तृतीय सर्ग

  • रश्मिरथी : तृतीय सर्ग – भाग 1
  • रश्मिरथी : तृतीय सर्ग – भाग 2
  • रश्मिरथी : तृतीय सर्ग – भाग 3
  • रश्मिरथी : तृतीय सर्ग – भाग 4
  • रश्मिरथी : तृतीय सर्ग – भाग 5
  • रश्मिरथी : तृतीय सर्ग – भाग 6
  • रश्मिरथी : तृतीय सर्ग – भाग 7

चतुर्थ सर्ग

  • रश्मिरथी : चतुर्थ सर्ग – भाग 1
  • रश्मिरथी : चतुर्थ सर्ग – भाग 2
  • रश्मिरथी : चतुर्थ सर्ग – भाग 3
  • रश्मिरथी : चतुर्थ सर्ग – भाग 4
  • रश्मिरथी : चतुर्थ सर्ग – भाग 5
  • रश्मिरथी : चतुर्थ सर्ग – भाग 6
  • रश्मिरथी : चतुर्थ सर्ग – भाग 7

पंचम सर्ग

  • रश्मिरथी : पंचम सर्ग – भाग 1
  • रश्मिरथी : पंचम सर्ग – भाग 2
  • रश्मिरथी : पंचम सर्ग – भाग 3
  • रश्मिरथी : पंचम सर्ग – भाग 4
  • रश्मिरथी : पंचम सर्ग – भाग 5
  • रश्मिरथी : पंचम सर्ग – भाग 6
  • रश्मिरथी : पंचम सर्ग – भाग 7

षष्ठ सर्ग

  • रश्मिरथी : षष्ठ सर्ग – भाग 1
  • रश्मिरथी : षष्ठ सर्ग – भाग 2
  • रश्मिरथी : षष्ठ सर्ग – भाग 3
  • रश्मिरथी : षष्ठ सर्ग – भाग 4
  • रश्मिरथी : षष्ठ सर्ग – भाग 5
  • रश्मिरथी : षष्ठ सर्ग – भाग 6
  • रश्मिरथी : षष्ठ सर्ग – भाग 7
  • रश्मिरथी : षष्ठ सर्ग – भाग 8
  • रश्मिरथी : षष्ठ सर्ग – भाग 9
  • रश्मिरथी : षष्ठ सर्ग – भाग 10
  • रश्मिरथी : षष्ठ सर्ग – भाग 11
  • रश्मिरथी : षष्ठ सर्ग – भाग 12
  • रश्मिरथी : षष्ठ सर्ग – भाग 13

सप्तम सर्ग

  • रश्मिरथी : सप्तम सर्ग – भाग 1
  • रश्मिरथी : सप्तम सर्ग – भाग 2
  • रश्मिरथी : सप्तम सर्ग – भाग 3
  • रश्मिरथी : सप्तम सर्ग – भाग 4
  • रश्मिरथी : सप्तम सर्ग – भाग 5
  • रश्मिरथी : सप्तम सर्ग – भाग 6
  • रश्मिरथी : सप्तम सर्ग – भाग 7
  • रश्मिरथी : सप्तम सर्ग – भाग 8

∼ रामधारी सिंह ‘दिनकर’

About Ramdhari Singh Dinkar

राष्ट्रकवि रामधारी सिंह ‘दिनकर’ (२३ सितंबर १९०८- २४ अप्रैल १९७४) हिन्दी के एक प्रमुख लेखक, कवि व निबन्धकार थे। वे आधुनिक युग के श्रेष्ठ वीर रस के कवि के रूप में स्थापित हैं। बिहार प्रान्त के बेगुसराय जिले का सिमरिया घाट उनकी जन्मस्थली है। उन्होंने इतिहास, दर्शनशास्त्र और राजनीति विज्ञान की पढ़ाई पटना विश्वविद्यालय से की। उन्होंने संस्कृत, बांग्ला, अंग्रेजी और उर्दू का गहन अध्ययन किया था। ‘दिनकर’ स्वतन्त्रता पूर्व एक विद्रोही कवि के रूप में स्थापित हुए और स्वतन्त्रता के बाद राष्ट्रकवि के नाम से जाने गये। वे छायावादोत्तर कवियों की पहली पीढ़ी के कवि थे। एक ओर उनकी कविताओ में ओज, विद्रोह, आक्रोश और क्रान्ति की पुकार है तो दूसरी ओर कोमल श्रृंगारिक भावनाओं की अभिव्यक्ति है। इन्हीं दो प्रवृत्तियों का चरम उत्कर्ष हमें उनकी कुरुक्षेत्र और उर्वशी नामक कृतियों में मिलता है। उर्वशी को भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार जबकि कुरुक्षेत्र को विश्व के १०० सर्वश्रेष्ठ काव्यों में ७४वाँ स्थान दिया गया।

Check Also

Hindu Gods & Goddesses Images, Stock Photos

Hindu Gods & Goddesses Images, Stock Photos

Hindu Gods & Goddesses Images, Stock Photos: It is believed that there are 330 million gods …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *