Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » Rajiv Krishna Saxena’s Devotional Hindi Poem मैं ही हूं
Rajiv Krishna Saxena's Devotional Hindi Poem मैं ही हूं

Rajiv Krishna Saxena’s Devotional Hindi Poem मैं ही हूं

मैं ही हूँ प्रभु पुत्र आपका, चिर निष्ठा से
चरणों में नित बैठ नाम का जप करता हूँ

मैं हीं सिक्का खरा, कभी मैं ही हूँ खोटा
मेरे ही कर्मों का रखते लेखा–जोखा
मैं ही गोते खा–खा कर फिर–फिर तरता हूँ
चक्र आपका, जी–जी कर फिर–फिर मरता हूँ

जीवन की नैया पर, कर्मों के सागर से
जूझा मैं ही पाप–पुण्य की पतवारों से
और कभी फिर बैरागी बन, हाथ जोड़ कर
झुक–झुक कर मैं ही निज मस्तक को धरता हूँ

गौतम, कपिल, शंकरा मैं, मैं ही जाबाली
चारवाक मैं, ईसा मैं, मैं ही कापालिक
विस्मित हो लखता हूँ मैं अगिनित रूपों को
भांति–भांति से फिर उनका वर्णन करता हूँ

मंदिर में, मस्जिद में, गिरजों, गुरूद्वारों में
युग–युग से मानव के अगिनित अवतारों में
ध्यान–मग्न हो चिंतंन के अदभुद रंगों से
मैं ही हूं प्रभु, नित्य आपको जो रचता हूं

~ राजीव कृष्ण सक्सेना

आपको “राजीव कृष्ण सक्सेना” जी की यह कविता “मैं ही हूं” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Population Explosion - English Poetry about Population

Population Explosion – English Poetry about Population

We need more population So no need to have atomic explosion Why do we need …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *