Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » रेलगाड़ी – महजबीं

रेलगाड़ी – महजबीं

छुक-छुक, छुक-छुक करती रेल,
धुआं उड़ाती चलती रेल।

देखों बच्चों आई रेल।

रंग होता है लाल इसका,
इंजन लेकिन काला इसका।

पेड़, नदी, खेत, खलियान,
पार कर जाती चाय की दुकान।

जाती जयपुर, मालवा, खांडवा,
रायपुर, बरेली और आगरा।

किसी शहर से किसी नगर से,
नहीं है इसका झगड़ा-वगड़ा।

∼ महजबीं

Check Also

Heaviest train pulled: Russia set World Record

Heaviest train pulled: Russia set World Record

Smolyaninovo, Russia – March 1, 2017 – Russian Powerlifting champion Ivan Savkin managed to pull …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *