Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » पथ-हीन – भारत भूषण अग्रवाल

पथ-हीन – भारत भूषण अग्रवाल

कौन सा पथ है?
मार्ग में आकुल–अधीरातुर बटोही यों पुकारा
कौन सा पथ है?

‘महाजन जिस ओर जाएं’ – शास्त्र हुँकारा
‘अंतरात्मा ले चले जिस ओर’ – बोला न्याय पंडित
‘साथ आओ सर्व–साधारण जनों के’ – क्रांति वाणी।

पर महाजन–मार्ग–गमनोचित न संबल है‚ न रथ है‚
अन्तरात्मा अनिश्चय–संशय–ग्रसित‚
क्रांति–गति–अनुसरण–योग्या है न पद सामर्थ्य।

कौन सा पथ है?
मार्ग में आकुल–अधीरातुर बटोही यों पुकारा
कौन सा पथ है?

∼ भारत भूषण अग्रवाल

About 4to40 Team

Check Also

मजदूर दिवस पर हिंदी कविता - मैं एक मजदूर हूं

मजदूर दिवस पर हिंदी कविता – मैं एक मजदूर हूं

मैं एक मजदूर हूं भगवान की आंखों से मैं दूर हूं छत खुला आकाश है …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *