Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » पर्व है पुरुषार्थ का, दीप के दिव्यार्थ का
पर्व है पुरुषार्थ का, दीप के दिव्यार्थ का

पर्व है पुरुषार्थ का, दीप के दिव्यार्थ का

पर्व है पुरुषार्थ का,
दीप के दिव्यार्थ का।

Deep Ek Jalta Raheदेहरी पर दीप एक जलता रहे,
अंधकार से युद्ध यह चलता रहे।

हारेगी हर बार अंधियारे की घोर-कालिमा,
जीतेगी जगमग उजियारे की स्वर्ण-लालिमा।

दीप ही ज्योति का प्रथम तीर्थ है,
कायम रहे इसका अर्थ, वरना व्यर्थ है।

आशीषों की मधुर छांव इसे दे दीजिए,
प्रार्थना-शुभकामना हमारी ले लीजिए।

झिलमिल रोशनी में निवेदित अविरल शुभकामना,
आस्था के आलोक में आदरयुक्त मंगल भावना।

~ Anonymous

आपको यह कविता “पर्व है पुरुषार्थ का, दीप के दिव्यार्थ का” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Holi festival coloring pages

होली के त्योहार से जुड़ी कुछ बाल-कहानियाँ

होली वाला बर्थडे: मंजरी शुक्ला ऐसे मनी होली: मंजरी शुक्ला होली: मंजरी शुक्ला मुस्कान की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *