Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » पानी और धुप – सुभद्रा कुमारी चौहान

पानी और धुप – सुभद्रा कुमारी चौहान

अभी अभी थी धूप, बरसने,
लगा कहाँ से यह पानी।
किसने फोड़ घड़े बादल के,
की है इतनी शैतानी॥

सूरज ने क्‍यों बंद कर लिया,
अपने घर का दरवाजा़।
उसकी माँ ने भी क्‍या उसको,
बुला लिया कहकर आजा॥

ज़ोर-ज़ोर से गरज रहे हैं,
बादल हैं किसके काका।
किसको डाँट रहे हैं, किसने,
कहना नहीं सुना माँ का॥

बिजली के आँगन में अम्‍माँ,
चलती है कितनी तलवार।
कैसी चमक रही है फिर भी,
क्‍यों खाली जाते हैं वार॥

क्‍या अब तक तलवार चलाना,
माँ वे सीख नहीं पाए।
इसीलिए क्‍या आज सीखने,
आसमान पर हैं आए॥

एक बार भी माँ यदि मुझको,
बिजली के घर जाने दो।
उसके बच्‍चों को तलवार,
चलाना सिखला आने दो॥

खुश होकर तब बिजली देगी,
मुझे चमकती सी तलवार।
तब माँ कर न कोई सकेगा,
अपने ऊपर अत्‍याचार॥

पुलिसमैन अपने काका को,
फिर न पकड़ने आएँगे।
देखेंगे तलवार दूर से ही,
वे सब डर जाएँगे॥

अगर चाहती हो माँ काका,
जाएँ अब न जेलखाना।
तो फिर बिजली के घर मुझको,
तुम जल्‍दी से पहुँचाना॥

काका जेल न जाएँगे अब,
तूझे मँगा दूँगी तलवार।
पर बिजली के घर जाने का,
अब मत करना कभी विचार॥

∼ सुभद्रा कुमारी चौहान

About Subhadra Kumari Chauhan

सुभद्रा कुमारी चौहान का जन्म नागपंचमी के दिन १६ अगस्त १९०४ को इलाहाबाद (उत्तरप्रदेश) के निकट निहालपुर गाँव में एक सम्पन्न परिवार में हुआ था। सुभद्रा कुमारी को बचपन से ही काव्य-ग्रंथों से विशेष लगाव व रूचि था। आपका विद्यार्थी जीवन प्रयाग में ही बीता। अल्पायु आयु में ही सुभद्रा की पहली कविता प्रकाशित हुई थी। सुभद्रा और महादेवी वर्मा दोनों बचपन की सहेलियाँ थीं। सुभद्रा कुमारी का विवाह खंडवा (मद्य प्रदेश) निवासी ‘ठाकुर लक्ष्मण सिंह’ के साथ हुआ। पति के साथ वे भी इलाहाबाद में महात्मा गांधी के १९२१ के असहयोग आंदोलन से जुड़ गईं और राष्ट्र-प्रेम पर कविताएं करने लगी। १५ फरवरी १९४८ को मात्र ४३ वर्ष की अवस्था में र्भाग्यवश एक सड़क दुर्घटना में आपका निधन हो गया। इनकी रचनाएँ हैं — काव्य संग्रह : ‘मुकुल’ (१९३० में प्रकाशित हुआ) और ‘त्रिधारा'। कहानी संकलन : ‘सीधे-सादे चित्र’, ‘बिखरे मोती’ और ‘उन्मादिनी’ । ‘झाँसी की रानी इनकी बहुचर्चित रचना है। इन्हें ‘मुकुल तथा ‘बिखरे मोती पर अलग-अलग सेकसरिया पुरस्कार मिले।

Check Also

काम हमारे बड़े–बड़े: प्रेरणादायक बाल-कविता

काम हमारे बड़े–बड़े: प्रेरणादायक बाल-कविता

हम बच्चे हैं छोटे–छोटे, काम हमारे बड़े–बड़े। आसमान का चाँद हमी ने थाली बीच उतारा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *