Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » New Year Hindi Poem नव वर्ष के स्वागत में
New Year Hindi Poem नव वर्ष के स्वागत में

New Year Hindi Poem नव वर्ष के स्वागत में

नव वर्ष आने वाला है
रजनीगंधा की बेलों के
झोंके के साथ
निखर रही हैं वादियाँ
पिघल रहा बर्फ़ भरा पहाड़ भी
बीते हुए लम्हों को भूल
धुंध में कोहरे में
किरणों में कण-कण में
आ गई फिर से नई जान है
नव वर्ष के स्वागत में

भोर बसा उजला
धुला-धुला-सा
तुलसी के चौरे पर
अर्घ्य पानी देती मैं
सभी के लिए
नव वर्ष में
उन्नति शांति
और प्यार में डूबे
जीवन के लिए।

सुबह सवेरे
चिडियों के गीत चहक उठे हैं
आने वाले वर्ष में बिखराए
बाजरे के दानों के लिए
नव सृजन
नव संकल्प की भूमिका आई
किसलय नए फूटे
नई-सी सुगंध
नव कलेवर पर
लिखे मौसम नए रंग
नव वर्ष के स्वागत में।

∼ रंजना सोनी

आपको रंजना सोनी जी की यह कविता “नव वर्ष के स्वागत में” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Akshaya Tritiya

Akshaya Tritiya, Akha Teej, Navanna Parvam

Akshaya Tritiya, which falls on the third day of the bright half of the pan …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *