Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » मैं कभी बतलाता नहीं, पर अँधेरे से डरता हूँ मैं माँ – प्रसून जोशी

मैं कभी बतलाता नहीं, पर अँधेरे से डरता हूँ मैं माँ – प्रसून जोशी

Taare Zameen Parमैं कभी बतलाता नहीं, पर अँधेरे से डरता हूँ मैं माँ
यूँ तो मैं दिखलाता नहीं, तेरी परवाह करता हूँ मैं माँ
तुझे सब हैं पता, हैं ना माँ
तुझे सब हैं पता, मेरी माँ

भीड़ में यूँ ना छोड़ो मुझे, घर लौट के भी आ ना पाऊँ माँ
भेजना इतना दूर मुझको तू, याद भी तुझको आ ना पाऊँ माँ
क्या इतना बुरा हूँ मैं माँ, क्या इतना बुरा, मेरी माँ

जब भी कभी पापा मुझे जो जोर से झूला झुलाते हैं माँ
मेरी नज़र ढूंढें तुझे, सोचु यही तू आ के थामेगी माँ
उनसे मैं ये केहता नहीं, पर मैं सेहम जाता हूँ माँ
चेहरे पे आने देता नहीं, दिल ही दिल में घबराता हूँ माँ
तुझे सब हैं पता, हैं ना माँ
तुझे सब हैं पता, मेरी माँ

हो मैं कभी बतलाता नहीं, पर अँधेरे से डरता हूँ मैं माँ
यूँ तो मैं दिखलाता नहीं, तेरी परवाह करता हूँ मैं माँ
तुझे सब हैं पता, हैं ना माँ
तुझे सब हैं पता, मेरी माँ

∼ प्रसून जोशी

चित्रपट : तारे ज़मीन पर (२००७)
निर्माता, निर्देशक : आमिर खान
लेखक : अमोल गुप्ते
गीतकार : प्रसून जोशी
संगीतकार : शंकर-एहसान-लॉय
गायक : शंकर महादेवन
सितारे : आमिर खान, दर्शील सफारी, टिस्का चोपड़ा, विपिन शर्मा, सचेत इंजीनियर, तनय छेड़ा

About Prasoon Joshi

प्रसून जोशी (जन्म: 16 सितम्बर 1968) हिन्दी कवि, लेखक, पटकथा लेखक और भारतीय सिनेमा के गीतकार हैं। वे विज्ञापन जगत की गतिविधियों से भी जुड़े हैं और अन्तर्राष्ट्रीय विज्ञापन कंपनी 'मैकऐन इरिक्सन' में कार्यकारी अध्यक्ष हैं। फ़िल्म ‘तारे ज़मीन पर’ के गाने ‘मां...’ के लिए उन्हें 'राष्ट्रीय पुरस्कार' भी मिल चुका है। प्रसून का जन्म उत्तराखंड के अल्मोड़ा ज़िले के दन्या गाँव में 16 सितम्बर 1968 को हुआ था। उनके पिता का नाम देवेन्द्र कुमार जोशी और माता का नाम सुषमा जोशी है। उनका बचपन एवं उनकी प्रारम्भिक शिक्षा टिहरी, गोपेश्वर, रुद्रप्रयाग, चमोली एवं नरेन्द्रनगर में हुई, जहां उन्होने एम.एससी. और उसके बाद एम.बी.ए. की पढ़ाई की। उनकी तीन पुस्तकें प्रकाशित हुई है। दिल्ली ६’, ‘तारे ज़मीन पर’, ‘रंग दे बसंती’, ‘हम तुम’ और ‘फना’ जैसी फ़िल्मों के लिए कई सुपरहिट गाने लिखे हैं। फ़िल्म ‘लज्जा’, ‘आंखें’, ‘क्योंकि’ में संगीत दिया है। ‘ठण्डा मतलब कोका कोला’ एवं ‘बार्बर शॉप-ए जा बाल कटा ला’ जैसे प्रचलित विज्ञापनों के कारण उन्हे अन्तर्राष्ट्रीय मान्यता मिली।

Check Also

मोहे तू रंग दे बसंती - प्रसून जोशी

मोहे तू रंग दे बसंती – प्रसून जोशी

थोडी सी धूल मेरी धरती की मेरे वतन की… थोडीसी खुश्बू बुरे से मस्त पवन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *