Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » मांझी न बजाओ बंशी – केदार नाथ अग्रवाल
मांझी न बजाओ बंशी – केदार नाथ अग्रवाल

मांझी न बजाओ बंशी – केदार नाथ अग्रवाल

मांझी न बजाओ बंशी
मेरा मन डोलता।
मेरा मन डोलता
जैसे जल डोलता।
जल का जहाज जैसे
पल पल डोलता।
मांझी न बजाओ बंशी‚ मेरा मन डोलता।

मांझी न बजाओ बंशी
मेरा प्रन टूटता‚
मेरा प्रन टूटता
जैसे तृन टूटता‚
तृन का निवास जैसे
वन वन टूटता।
मांझी न बजाओ बंशी‚ मेरा प्रन टूटता।

मांझी न बजाओ बंशी
मेरा तन झूमता।
मेरा तन झूमता है
तेरा तन झूमता‚
मेरा तन तेरा तन
एक बन झूमता‚
मांझी न बजाओ बंशी‚ मेरा तन झूमता

~ केदार नाथ अग्रवाल

Check Also

घर की याद - भवानी प्रसाद मिश्र

घर की याद – भवानी प्रसाद मिश्र

आज पानी गिर रहा है, बहुत पानी गिर रहा है, रात भर गिरता रहा है, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *