Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » क्यों करते हो झगड़े – शम्भू नाथ

क्यों करते हो झगड़े – शम्भू नाथ

क्यों करते हो झगड़े, क्यों पालते हो लफ़ड़े
आपस में प्रेम करो, बैर विरोध मिटाओ।

सब छोड़ यहीं जाना है, कुछ साथ नहीं जायेगा
अच्छाई और बुराई का लेख, यहीं रह जायेगा
रह-रह कर प्यारे, तू भी पछतायेगा।

ये पानी की बूंदें हैं, सागर का किनारा है
यहाँ सबको आना है, सबको जाना है
जब जाना है अकेला तो, क्यों करते हो झमेला
सब कुछ यहीं रहेगा, कर्म जायेगा अकेला।

दुनिया में प्यार मोहब्बत, हिल-मिल करके चलो
अपने ही जीवन पर, एक दो लेख जरूर लिखो।

क्यों करते हो पंगा, क्यों होते हो नंगा
ये दो दिन की माया है, छोड़ के जाओगे चंगा
अब न करना पंगा, अब न होना नंगा
प्यार से रहना सीखो, होगा सब कुछ अच्छा
जब ऊपर जाओगे, फिर खाओगे ना डंडा।

∼ शम्भू नाथ

About Shambhu Nath

Profile not available. If you have any details about this author - please email at author[at]thissitename.

Check Also

Yoga Quotes in English

Yoga Quotes in English

Yoga Quotes in English: In fact, the Asana comprises just a small part of the …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *