Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » खिचड़ी – ओम प्रकाश बजाज
Khichadi

खिचड़ी – ओम प्रकाश बजाज

चावल-दाल मिला कर बनती,

खिचड़ी घर में सब को भाती।

रोगी को डॉक्टर खाने को कहते,

हल्की गिजा वे इसे मानते।

घी और मसालों का छौंक लगा कर,

छोटे-बड़े सब शौक से खाते।

बीरबल की खिचड़ी पकाना कहलाती,

जब किसी काम में अधिक देर हो जाती।

घी खिचड़ी में ही तो रहा, तब कहा जाता,

जब घर का पैसा घर में ही रह जाता।

जब किसी विचार पर वाद-विवाद चलता,

खिचड़ी पकाना वह भी कहलाता।

आयु बढ़ाने पर कुछ बाल सफ़ेद हो जाते,

तो मिले-जुले बाल खिचड़ी बाल कहलाते।

~ ओम प्रकाश बजाज

Check Also

USA Weird News: Washington married couple struggling to conceive discover they're twins!

USA Weird News: Washington married couple struggling to conceive discover they’re twins!

Washington: A married couple in the US shockingly discovered that they were biological twins after …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *