Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » खिचड़ी – ओम प्रकाश बजाज
Khichadi

खिचड़ी – ओम प्रकाश बजाज

चावल-दाल मिला कर बनती,

खिचड़ी घर में सब को भाती।

रोगी को डॉक्टर खाने को कहते,

हल्की गिजा वे इसे मानते।

घी और मसालों का छौंक लगा कर,

छोटे-बड़े सब शौक से खाते।

बीरबल की खिचड़ी पकाना कहलाती,

जब किसी काम में अधिक देर हो जाती।

घी खिचड़ी में ही तो रहा, तब कहा जाता,

जब घर का पैसा घर में ही रह जाता।

जब किसी विचार पर वाद-विवाद चलता,

खिचड़ी पकाना वह भी कहलाता।

आयु बढ़ाने पर कुछ बाल सफ़ेद हो जाते,

तो मिले-जुले बाल खिचड़ी बाल कहलाते।

~ ओम प्रकाश बजाज

Check Also

Maharashtra Offbeat News: Thane doctors halt surgery to click cockroaches

Maharashtra Offbeat News: Thane doctors halt surgery to click cockroaches

In a bizarre development, doctors in a hospital here stopped a patient’s surgery midway to …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *