Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » केजरीवाल चालीसा – शम्भू नाथ

केजरीवाल चालीसा – शम्भू नाथ

दोहा:

सच्चाई की अलख जगाई जनता दे दिया साथ॥

विजय पताका हासिल कर ली खा गए सारे मात॥

चौपाई:

जय केजरी कुंवर बलवंता। मनीष कुमार और भगवंता॥

सच की टोपी सर पर सोहे। मृदु वचन से जनता मोहे॥

पूर्ण वादे को करने वाले। लोगों का दुःख रहने वाले॥

भ्रष्टाचार को करो उजागर। अत्याचारी की फोड़ो गागर॥

नीति विरोध काम नहीं करते। जन जन की पीड़ा तुम हरते॥

लोकपाल जल्दी ले आओ। सच की दिल्ली जल्द बनाओ॥

चारो तरफ हुआ नाम तुम्हारा। भ्रष्टाचार को तुमने मारा॥

सब गरीब अब सुख पाएंगे। उनके दुःख अब दूर जाएंगे॥

बेरोजगार को मिले नौकरी। सच्चाई संग ले करे चाकरी॥

जन जन के तुम हो रखवाले। सबके प्यारे अलग निराले॥

साधारण खुद ही रहने वाले। कभी गलत न करने वाले॥

जय जय जय हे दिल्ली के दाता। तुम्हारी रक्षा करे विधाता॥

दोहा:

आम पार्टी रुके कभी न करती रहे उत्थान॥

लालच-दर्प कभी न आए डिगे नहीं ईमान॥

॥ आम पार्टी जिन्दाबाद ॥

∼ शम्भू नाथ

अरविंद केजरीवाल (जन्म: १६ अगस्त १९६८) भारत के दिल्ली राज्य के मुख्यमन्त्री हैं। पहले वे २८ दिसम्बर २०१३ से १४ फ़रवरी २०१४ तक वे इस पद पर रहे। ४९ दिन की अल्पमत सरकार चलाने के बाद जब वे अपने चुनावी वायदे के अनुसार जनलोकपाल बिल विधानसभा में पारित नहीं करवा पाए तो उन्होंने त्यागपत्र दे दिया। साल भर के राष्ट्रपति शासन के बाद फरवरी 2015 के चुनावों में उनकी पार्टी ने भारी बहुमत हासिल किया तथा १४  फरवरी २०१५ को वे दोबारा दिल्ली के मुख्यमंत्री पद पर आसीन हुए।

इससे पहले वो एक सामाजिक कार्यकर्ता रहे हैं और सरकार में अधिक पारदर्शिता लाने के लिये उन्होंने संघर्ष भी किया। भारत में सूचना अधिकार अर्थात सूचना कानून (सूका) के आन्दोलन को जमीनी स्तर पर सक्रिय बनाने, सरकार को जनता के प्रति जवाबदेह बनाने और सबसे गरीब नागरिकों को भ्रष्टाचार से लड़ने के लिये सशक्त बनाने हेतु उन्हें वर्ष २००६ में रमन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उन्होंने आम आदमी पार्टी के नाम से एक नये राजनीतिक दल की स्थापना की।

About Shambhu Nath

Profile not available. If you have any details about this author - please email at author[at]thissitename.

Check Also

Constitution of India

Constitution of India

India, also known as Bharat, is a Union of States. It is a Sovereign Socialist …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *