Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » कभी नहीं – ओम व्यास ओम
कभी नहीं - ओम व्यास ओम

कभी नहीं – ओम व्यास ओम

साले की बुराई
शक्की को दवाई
उधार–प्रेमी को अपने दोस्त से मिलाना
पत्नी को अपनी असली इनकम बतलाना
नवजात कुत्ते के बच्चे का सहलाना
और पहलवान की बहन से इश्क लड़ाना
कभी नहीं, कभी नहीं

नाई से उधारी में दाढ़ी
या फिर सैकिन्ड हैंड गाड़ी
नानवेज होटल में वेजीटेरियन खाना
नए – नए कवि को कविता सुनाना
फँसे हुए आदमी को वकील बताना
और बिना पानी देखे टॉयलेट में जाना
कभी नहीं, कभी नहीं

दो नंबर की कमाई रिश्तेदारों के नाम पर रखना
सुंदर जवान नौकरानी को काम पर रखना
कम भीड़ भाड़ वाले होटल में खाना
पत्नी से सुंदर पड़ोसिन को बताना
अधिकारी को सच्ची बात मुँह पर कहना
और पुलिस वाले के मकान में किराए पर रहना
कभी नहीं, कभी नहीं

बिना हाथ दिये गाड़ी को मोड़ना
यात्रा में पड़ोसी के भरोसे अटैची छोड़ना
साली पर खर्चा और उसके बाद रोना
चप्पल उतार कर बस में सोना
कभी नहीं, कभी नहीं

चिपक्कू महमान को बढ़िया खाना
टीचर के बच्चे को ट्यूशन पढ़ाना
चोरी के डर से पड़ोसी सुलाना
कम उम्र की महिला को आंटी बुलाना
सामूहिक भोजन की पंक्ति में आख़ीर में बैठना
पत्नी से उसके मायके में ऐंठना
कभी नहीं, कभी नहीं

~ ओम व्यास ओम

Check Also

प्रायश्चित Heart-rending Story of Repentance

प्रायश्चित Heart-rending Story of Repentance

ज़रूरी नहीं है कि जैसे सपने कभी सच हो जाते हैं और उनींदी पलकों पर …