Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » होली पर हिंदी बाल-कविता: इस होली में
होली पर हिंदी बाल-कविता: इस होली में

होली पर हिंदी बाल-कविता: इस होली में

आओ बच्चों इस होली में
कुछ नवीन कर डालें,

ऊँच-नीच, निर्बल सबको हम
अपने गले लगा लें।

जिनके पास नहीं कुछ भी है
उनको भी हम रंग दें,

मित्र बना करके उन सबको
हम टोली का संग दें ।

खाते नहीं मिठाई, गुझिया
कुछ उनको भी बांटे,

प्रेम प्रीत का सबक सिखाएं
न दुत्कारे-डांटे।

यह संदेश होलिका माँ का
द्वार-द्वार पहुंचाएं,

जीवन जीते परहित में
वही महान कहलाए।

~ डॉ देशबंधु ‘शाहजहांपुरी’

आपको डॉ देशबंधु ‘शाहजहांपुरी’ जी की यह बाल-कविता “इस होली में” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

फर्नीचर - Children's Hindi Poem on Home Furniture

फर्नीचर – Children’s Hindi Poem on Home Furniture

थोड़ा-बहुत  फर्नीचर तो हर घर में होता है, सोने, उठने-बैठने, रखने को कुछ तो होता …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *