Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » घर: दो कविताएं – निदा फ़ाज़ली

घर: दो कविताएं – निदा फ़ाज़ली

अहतियात

घर से बाहर
जब भी जाओ
तो ज्यादा से ज्यादा
रात तक लौट आओ
जो कई दिन तक ग़ायब रह कर वापस आता है
वो उम्र भर पछताता है
घर अपनी जगह छोड़ कर चला जाता है।

लगाव

तुम जहाँ भी रहो
उसे घर की तरह सजाते रहो
गुलदान में फूल सजाते रहो
दीवारों पर रंग चढ़ाते रहो
सजे बजे घर में हाथ पाँव उग आते हैं
फिर तुम कहीं जाओ
भले ही अपने आप को भूल जाओ
तुम्हारा घर
तुम्हें ढूंढ कर वापस ले आएगा

∼ निदा फ़ाज़ली

About Nida Fazli

Muqtida Hasan Nida Fazli known as Nida Fazli (born 12 October 1938) is an Indian Hindi and Urdu poet. Nida Fazli is a poet of various moods and to him the creative sentiment and inner urge are the sources of poetry. He thinks that the feeling of a poet is similar to an artist: like a painter or a musician.

Check Also

Father's Day Slogans in Hindi

Father’s Day Slogans in Hindi

फादर्स डे पिताओं के सम्मान में एक व्यापक रूप से मनाया जाने वाला पर्व हैं …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *