Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » दुपहरिया: केदार नाथ सिंह
दुपहरिया: केदार नाथ सिंह

दुपहरिया: केदार नाथ सिंह

झरने लगे नीम के पत्ते बढ़ने लगी उदासी मन की,

उड़ने लगी बुझे खेतों से
झुर झुर सरसों की रंगीनी,
धूसर धूप हुई मन पर ज्यों ­­–
सुधियों की चादर अनबीनी,

दिन के इस सुनसान पहर में रुक­सी गई प्रगति जीवन की।

सांस रोक कर खड़े हो गये
लुटे­–लुटे­ से शीशम उन्मन,
चिलबिल की नंगी बाहों में
भरने लगा एक खोयापन,

बड़ी हो गई कटु कानों को “चुर­–मुर” ध्वनि बांसों के बन की।

थक कर ठहर गई दुपहरिया,
रुक कर सहम गई चौबाई,
आंखों के इस वीराने में­­
और चमकने लगी रुखाई,

प्रान, आ गए दर्दीले दिन, बीत गईं रातें ठिठुरन की।

~ केदार नाथ सिंह

आपको केदार नाथ सिंह जी की यह कविता “दुपहरिया” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

How to draw bird

How To Draw Bird: Drawing Lessons for Students and Children

How To Draw Bird: Drawing Lessons for Students and Children – Step – by – …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *