Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » देश मेरे – राजीव कृष्ण सक्सेना
देश मेरे - राजीव कृष्ण सक्सेना

देश मेरे – राजीव कृष्ण सक्सेना

मैं तज कर जा नहीं सकता तुझे ओ देश मेरे,
बुलाएं लाख ललचायें मुझे परदेश डेरे,
इसी पावन धरा पर हो मगन संतुष्ट हूँ मैं,
लुभा नहीं सकते धन धान्य महलों के बसेरे।

जुड़ा हूँ मैं अमिट इतिहास से कैसे भुला दूँ?
जो जागृत प्रीत की झंकार वह कैसे सुला दूँ?
जो घुट्टी संग भारत वर्ष की ममता मिली थी,
उसे कैसे भुलाकर आज माँ तुझसे विदा लूँ?

मैं तेरे संग बैसाखी की गर्मी में तपूंगा,
मगन हो आँधियों लू के थपेड़ों को सहूँगा,
सहस्त्रों वर्ष से जो मेघ भादों में बरसते,
तिलक हर वर्ष उन पावस की बूंदों से करूंगा।

मगन मस्त लेकर घूम आऊंगा अकेले,
उमड़ती भीड़ में मिल कुम्भ और पुष्कर के मेले,
कठिन हो पंथ पर हो शीश पर आशीष तेरा,
उसे पा झेल जाऊँगा सभी जग के झमेले।

कभी फिर रात्रि को छत पर निरख कर चाँद तारे,
सहज हे गुनगुनाउंगा मधुर वे गीत प्यारे,
लिखे हैं अमिट स्याही से ह्रदय पर आत्मा पर,
सुने शिशुकाल में या पूर्व जन्मों में हमारे।

∼ राजीव कृष्ण सक्सेना

About Rajiv Krishna Saxena

प्रो. राजीव कृष्ण सक्सेना - जन्म 24 जनवरी 1951 को दिल्ली मे। शिक्षा - दिल्ली विश्वविद्यालय एवं अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, नई दिल्ली में। एक वैज्ञानिक होने पर भी प्रोफ़ेसर सक्सेना को हिंदी सहित्य से विशेष प्रेम है। उन्होंने श्रीमद भगवतगीता का हिंदी में मात्राबद्ध पद्यानुवाद किया जो ''गीता काव्य माधुरी'' के नाम से पुस्तक महल दिल्ली के द्वारा प्रकाशित हुआ है। प्रोफ़ेसर सक्सेना की कुछ अन्य कविताएँ विभिन्न पत्रिकाओं मे छप चुकी हैं। उनकी कविताएँ लेख एवम गीता काव्य माधुरी के अंश उनके website www.geeta-kavita.com पर पढ़े जा सकते हैं।

Check Also

Spot The Difference

Spot The Difference 2 – Fun Activity

Spot The Difference – अंतर बताएं – दिए गए चित्र में आप कम से कम पांच अंतर …

One comment

  1. This poem teaches a good lesson to those Indians who think of to settle in foreign countries.
    I want Bhavarth (Anuvad) of this poem in hindi.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *