Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » दाने: केदार नाथ सिंह
दाने: केदार नाथ सिंह

दाने: केदार नाथ सिंह

नहीं
हम मंडी नहीं जाएंगे
खलिहान से उठते हुए
कहते हैं दाने

जाएँगे तो फिर लौट कर नहीं आएँगे
जाते जाते
कहते जाते हैं दाने

अगर लौट कर आए भी
तो तुम हमें पहचान नहीं पाओगे
अपनी अंतिम चिट्ठी में
लिख भेजते हैं दाने

उसके बाद महीनों तक
बस्ती में
काई चिट्ठी नहीं आती

केदार नाथ सिंह

आपको केदार नाथ सिंह जी की यह कविता “दाने” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Raid Movie

Bollywood 2018 Action Thriller Film: Raid Movie Review

Director: Raj Kumar Gupta Writer: Ritesh Shah Stars: Ajay Devgn, Saurabh Shukla, Ileana D’Cruz Genre: Action, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *