Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » छोटे शहर की यादें – शार्दुला नोगजा

छोटे शहर की यादें – शार्दुला नोगजा

मुझे फिर बुलातीं हैं मुस्काती रातें,
वो छोटे शहर की बड़ी प्यारी बातें।

चंदा की फाँकों का हौले से बढ़ना,
जामुन की टहनी पे सूरज का चढ़ना।

कड़कती दोपहरी का हल्ला मचाना,
वो सांझों का नज़रें चुरा बेर खाना।

वहीं आ गया वक्त फिर आते जाते,
ले फूलों के गहने‚ ले पत्तों के छाते।

बहना का कानों में हँस फुसफुसाना,
भैया का शावर में चिल्ला के गाना।

दीदी का लैक्चर‚ वो मम्मी की पूजा,
नहीं मामू से बढ़ के गप्पोड़ दूजा।

सुनाने लगा कोई फ़िर से वो बातें,
वो तुलसी के दिन और चम्पा की रातें।

परीक्षा के दिन पेट में उड़ती तितली,
पिक्चर के क्लाइमैक्स पे गुल होती बिजली।

साइकिल वो लूना‚ वो गिरना संभलना,
वो बेज़ार गलियाँ‚ झुका सिर वो चलना।

उधारी के कंचे‚ वो छल्लों के खाते,
है क्या क्या गँवाया यहाँ आते–आते।

मुझे फिर बुलाती हैं मुस्काती रातें,
वो छोटे शहर की बड़ी प्यारी बातें।

∼ शार्दुला नोगजा

About Shardula Nogaja

शार्दुला नोगजा (झा) जन्म– १ सितम्बर 1968 मधुबनी, बिहार। शिक्षा– बी.ई. (विद्युत आभियांत्रिकी) कोटा से किया। एर्लांगन, जर्मनी से एम.एस. (कंप्यूटेशनल आभियांत्रिकी) किया। 25 साल कोटा, राजस्थान में बिताये। संप्रति– मई 2005 से सिंगापुर में कार्यरत। लेखन– कवितायें ई-पत्रिकाओं पे प्रकाशित। विशेष– ‘ई-कविता याहू ग्रुप’ की सितम्बर 2008 से सक्रिय मेम्बर।

Check Also

स्कूल ना जाने की हठ पर एक बाल-कविता: माँ मुझको मत भेजो शाला

स्कूल ना जाने की हठ पर एक बाल-कविता: माँ मुझको मत भेजो शाला

अभी बहुत ही छोटी हूँ मैं, माँ मुझको मत भेजो शाळा। सुबह सुबह ही मुझे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *