Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » चाँद – गोविन्द भारद्वाज

चाँद – गोविन्द भारद्वाज

Chand Poemलहर – लहर लहराया चाँद,
आसमान पर आया चाँद।

सजी सितारों की बारात,
मन ही मन मुस्काया चाँद।

नही धरती शबनम में ,
और देख इतराया चाँद।

सुनकर नगमा चांदनी का,
आज फिर गुनगुनाया चाँद।

इस जगमगाती दुनिया में,
परी लोक से आया चाँद।

∼ गोविन्द भारद्वाज

Check Also

विश्व–सुंदरी Gopal Singh Nepali Hindi Poem about Beauty Queen

विश्व–सुंदरी Gopal Singh Nepali Hindi Poem about Beauty Queen

जल रहा तुम्हारा रूप–दीप कुंतल में बांधे श्याम घटा नयनों में नभ की नील छटा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *