Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » चाँद – गोविन्द भारद्वाज

चाँद – गोविन्द भारद्वाज

Chand Poemलहर – लहर लहराया चाँद,
आसमान पर आया चाँद।

सजी सितारों की बारात,
मन ही मन मुस्काया चाँद।

नही धरती शबनम में ,
और देख इतराया चाँद।

सुनकर नगमा चांदनी का,
आज फिर गुनगुनाया चाँद।

इस जगमगाती दुनिया में,
परी लोक से आया चाँद।

∼ गोविन्द भारद्वाज

Check Also

आरसी प्रसाद सिंह जी की प्रेम कविता - चाँद को देखो

आरसी प्रसाद सिंह जी की प्रेम कविता – चाँद को देखो

चाँद को देखो चकोरी के नयन से माप चाहे जो धरा की हो गगन से। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *