Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » चली चली रे पतंग – राजिंदर कृष्ण
चली चली रे पतंग - राजिंदर कृष्ण

चली चली रे पतंग – राजिंदर कृष्ण

चली-चली रे पतंग मेरी चली रे…
चली बादलो के पार हो के डोर पे सवार
साड़ी दुनिया ये देख-देख जली रे
चली-चली रे पतंग…

यू मस्त हवा मे लहराए जैसे उड़न खटोला उदा जाए…
ले के मन मे लगन जैसे कोई दुल्हन
चली जाए सावरिया की गली रे
चली-चली रे पतंग…

रंग मेरी पतंग का धानी है ये नील गगन की रानी…
बांकी बांकी है उड़ान है उम्र भी जवान
लागे पतली कमर बड़ी भली रे
चली-चली रे पतंग…

छूना मत देख अकेली है साथ मे डोर सहेली…
है ये बिजली की धार बड़ी तेज़ है कतार
देगी काट के रख दिलजली रे
चली-चली रे पतंग…

राजिंदर कृष्ण

चित्रपट : भाभी (१९५७ )
गीतकार : राजिंदर कृष्ण
संगीतकार : चित्रगुप्त
गायक : लता मंगेशकर, मो. रफ़ी
सितारे : नंदा, जगदीप, बलराज साहनी, पंडरी बाई

Bhabhi is a 1957 Hindi film directed by Krishnan-Panju for AVM Productions. The namesake of an earlier film directed by Franz Osten in 1938, the film stars Balraj Sahni, South Indian actress Pandari Bai, Nanda in pivotal roles.

The film went on to become the eighth highest grossing Bollywood film of the year.


Check Also

गर्मी आई समस्या लाई Hindi Poem on Summers

गर्मी आई समस्या लाई Hindi Poem on Summers

गर्मी आई समस्याएं लाई सब की चिंता बढ़ाई, गर्म हवायें आग बरसायें लोग पसीने में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *