Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » बंदर जी – भूखे बंदर पर हिंदी बाल-कविता
बंदर जी - भूखे बन्दर पर हिंदी बाल-कविता

बंदर जी – भूखे बंदर पर हिंदी बाल-कविता

देख कूदते बंदर जी को
इस डाली से उस डाली,
हंसते शोर मचाकर बच्चे
पीटे ताली पे ताली।

लगता है बंदर मामा जी
आज बड़े ही भूखे हैं,
उतरा-उतरा सा चेहरा है
होंठ भी इनके सूखे हैं।

तभी एक बच्चे को देखा
मामा ने केला खाते,
दौड़े उसके पास पहुंच गए
फिर मुस्कराते-मुस्कराते।

बच्चे ने फिर उनको जी भर
केला खूब खिलाया,
बंदर जी का पेट भरा और
मन बहुत हर्षाया।

~ आम्रपाली जाधव

आपको आम्रपाली जाधव जी की यह बाल-कविता “बन्दर जी” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

स्कूल ना जाने की हठ पर एक बाल-कविता: माँ मुझको मत भेजो शाला

स्कूल ना जाने की हठ पर एक बाल-कविता: माँ मुझको मत भेजो शाला

अभी बहुत ही छोटी हूँ मैं, माँ मुझको मत भेजो शाळा। सुबह सुबह ही मुझे …

2 comments

  1. This site is a perfect sort of encyclopaedia for each and everthing I require.
    Their updates and articles are fabulous 👍👍

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *