Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » बंदर आया – अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’
बंदर आया - अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’

बंदर आया – अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’

Monkeyदेखो लड़को, बंदर आया।
एक मदारी उसको लाया॥

कुछ है उसका ढंग निराला।
कानों में है उसके बाला॥

फटे पुराने रंग बिरंगे।
कपड़े उसके हैं बेढंगे॥

मुँह डरावना आँखे छोटी।
लंबी दुम थोड़ी सी मोटी॥

भौंह कभी वह है मटकाता।
आँखों को है कभी नचाता॥

ऐसा कभी किलकिलाता है।
जैसे अभी काट खाता है॥

दाँतों को है कभी दिखाता।
कूद फाँद है कभी मचाता॥

कभी घुड़कता है मुँह बा कर।
सब लोगों को बहुत डराकर॥

Jokerकभी छड़ी लेकर है चलता।
है वह यों ही कभी मचलता॥

है सलाम को हाथ उठाता।
पेट लेट कर है दिखलाता॥

ठुमक ठुमक कर कभी नाचता।
कभी कभी है टके माँगता॥

सिखलाता है उसे मदारी।
जो जो बातें बारी बारी॥

वह सब बातें वह करता है।
सदा उसी का दम भरता है॥

देखो बंदर सिखलाने से।
कहने सुनने समझाने से॥

बातें बहुत सीख जाता है।
कई काम कर दिखलाता है॥

फिर लड़को, तुम मन देने पर।
भला क्या नहीं सकते हो कर॥

बनों आदमी तुम पढ़ लिखकर।
नहीं एक तुम भी हो बंदर॥

∼ अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’

Check Also

Thailand Weird News: Bangkok Fat monkey sent to weight loss camp

Thailand Weird News: Bangkok Fat monkey sent to weight loss camp

A fat monkey in Bangkok caught attention of wildlife officials after they spotted him near …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *