Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » बच्चों की रेल

बच्चों की रेल

Bachchon Ki Railबच्चों की यह रेल है, बड़ा अनोखा खेल है।

यह कोयला नहीं खाती है , इसे मिठाई भाती है।

यह नहीं छोड़ती धुआं, मुड़ जाती देख कर कुआँ।

चलते-चलते जाती रुक,

छुक-छुक, छुक-छुक, छुक-छुक, छुक-छुक।

Check Also

Christmas Children

Christmas Children

All: Happy children here we stand, Bringing words of love; For on this glad Christmas day, Christ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *