Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » आलपिन का सिर होता – रामनरेश त्रिपाठी

आलपिन का सिर होता – रामनरेश त्रिपाठी

आलपिन के सर होता पर बाल नहीं होता है एक,
कुर्सी के टाँगे है पर फूटबाल नहीं सकती है फेंक।

कंघी के है दांत मगर वह चबा नहीं सकती खाना,
गला सुराही का है पतला किन्तु न गए सकती गाना।

जूते के है जीभ मगर वह स्वाद नही चख सकता है,
आँखे रखते हुए नारियल कभी न कुछ लिख सकता है।

है मनुष्य के पास सभी कुछ ले सकता है सबसे काम,
इसीलिए सबसे बढ़कर वह पाता है दुनिया में नाम।

∼ रामनरेश त्रिपाठी

Check Also

Clever Painter

चतुर चित्रकार – रामनरेश त्रिपाठी

चित्रकार सुनसान जगह में बना रहा था चित्र। इतने ही में वहां आ गया यम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *