Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » अकाल और उसके बाद – नागार्जुन
akaal-aur-uske-baad-nagarjuna

अकाल और उसके बाद – नागार्जुन

कई दिनों तक चूल्हा रोया चक्की रही उदास‚
कई दिनों तक कानी कुतिया सोई उसके पास
कई दिनों तह लगी भीत पर छिपकलियों की गश्त‚
कही दिनों तक चूहों की भी हालत रही शिकस्त।

दाने आये घर के अंदर बहुत दिनों के बाद‚
धुंआं उठा आंगन से ऊपर बहुत दिनों के बाद‚
चमक उठीं घर भर की आंखें बहुत दिनों के बाद‚
कौए नें खुजलाई पांखें बहुत दिनों के बाद।

~ नागार्जुन

Check Also

Sarveshwer Dayal Saxena Hindi Love Poetry कितनी बड़ी विवशता

Sarveshwer Dayal Saxena Hindi Love Poetry कितनी बड़ी विवशता

कितना चौड़ा पाट नदी का, कितनी भारी शाम, कितने खोए–खोए से हम, कितना तट निष्काम, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *