Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » आसमान – गोविन्द भारद्वाज

आसमान – गोविन्द भारद्वाज

नीला-नीला आसमान है,
नीचे सुन्दर एक जहान है।

बादल रहते इसके संग,
कितना अच्छा इसका संग।

पंछी ऊँची उड़ान भरे
भला इनका भगवान करे।

चाँद-तारों का है यह घर,
सूरज रहे लटका दिन-भर।

छिपा इसमें खगोल बड़ा,
पीछे इसके भूगोल बड़ा।

इसे छूने का अरमान है,
नीला-नीला आसमान है।

∼ गोविन्द भारद्वाज

Check Also

How to draw bird

How To Draw Bird: Drawing Lessons for Students and Children

How To Draw Bird: Drawing Lessons for Students and Children – Step – by – …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *