Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » आओ बच्चों तुम्हें दिखाये झाँकी हिंदुस्तान की – कवि प्रदीप
आओ बच्चों तुम्हें दिखाये झाँकी हिंदुस्तान की - कवि प्रदीप

आओ बच्चों तुम्हें दिखाये झाँकी हिंदुस्तान की – कवि प्रदीप

आओ बच्चों तुम्हें दिखाये झाँकी हिंदुस्तान की
इस मिट्टी से तिलक करो ये धरती है बलिदान की।
वंदे मातरम, वंदे मातरम…

Maharana Pratapउत्तर में रखवाली करता पर्वतराज विराट है
दक्षिण में चरणों को धोता सागर का सम्राट है
जमुना जी के तट को देखो गंगा का ये घाट है
बाट-बाट में हाट-हाट में यहाँ निराला ठाठ है
देखो ये तस्वीरें अपने गौरव की अभिमान की
इस मिट्टी से तिलक करो ये धरती हैं बलिदान की।
वंदे मातरम, वंदे मातरम…

ये हैं अपना राजपूताना नाज़ इसे तलवारों पे
इसने सारा जीवन काटा बरछी तीर कटारों पे
ये प्रताप का वतन पला हैं आज़ादी के नारों पे
Shivaji Maharajकूद पड़ी थी यहाँ हज़ारों पद्मिनियाँ अंगारों पे
बोल रही है कण कण से कुरबानी राजस्थान की
इस मिट्टी से तिलक करो ये धरती है बलिदान की।
वंदे मातरम, वंदे मातरम…

देखो मुल्क मराठों का यह यहाँ शिवाजी डोला था
मुग़लों की ताकत को जिसने तलवारों पे तोला था
हर पर्वत पे आग जली थी हर पत्थर एक शोला था
बोली हर-हर महादेव की बच्चा-बच्चा बोला था
शेर शिवाजी ने रखी थी लाज हमारी शान की
इस मिट्टी से तिलक करो ये धरती है बलिदान की।
वंदे मातरम, वंदे मातरम…

जलियाँवाला बाग ये देखो यही चली थी गोलियाँ
ये मत पूछो किसने खेली यहाँ खून की होलियाँ
Jallianwala Bagh Amritsarएक तरफ़ बंदूकें दन दन एक तरफ़ थी टोलियाँ
मरनेवाले बोल रहे थे इन्कलाब की बोलियाँ
यहाँ लगा दी बहनों ने भी बाजी अपनी जान की
इस मिट्टी से तिलक करो ये धरती है बलिदान की।
वंदे मातरम, वंदे मातरम…

ये देखो बंगाल यहाँ का हर चप्पा हरियाला है
यहाँ का बच्चा-बच्चा अपने देश पे मरनेवाला है
ढाला है इसको बिजली ने भूचालों ने पाला है
मुट्ठी में तूफ़ान बंधा है और प्राण में ज्वाला है
जन्मभूमि है यही हमारे वीर सुभाष महान की
इस मिट्टी से तिलक करो ये धरती है बलिदान की।
वंदे मातरम, वंदे मातरम…

∼ कवि प्रदीप

Song Picturized on: Abhi Bhattacharya
Movie: Jagriti 1954
Singer/Lyrics: Pradeep

This was the famous song from the film Jagriti.

Jagriti is a 1954 Bollywood film that won the Filmfare Best Movie Award in 1956, and the lead, Abhi Bhattacharya, won the Filmfare Best Supporting Actor Award.

The film was copied in 1957 Pakistani film “Bedari” produced by Rafiq Rizvi. Even the songs were copied by replacing “Hindustan” by “Pakistan”.

The film is about a spoiled rich kid, Ajay (Rajkumar Gupta), who is a problem child and is sent away to a boarding school by his grandfather. The board school is run by Shekhar (Abhi Bhattacharya). Shekhar tries to instill good values in the students using unorthodox teaching methods. He gains the students’ trust and educates them about the heritage of their country and encourages them to become model citizens.

At the boarding school, Ajay continues his ways and gets into trouble all the time, including with Shekhar. Meanwhile, Ajay meets and befriends a crippled boy named Shakti (Rattan Kumar) whose character is the opposite of Ajay. Shakti tries very hard to help Ajay change his ways, but Ajay’s stubborn nature gets in the way.

Finally one day, Ajay attempts to leave the hostel and Shakti finds out. Shakti tries to go after him and stop him but his handicap slows him down and his earnestness to get Ajay back causes him to lose track of the heavy traffic on the road. That is when Shakti is run over in a horrific accident. This was the triggering moment in Ajay, realizing that it was because of his stubbornness, Shakti died. His moves him to change and become a better person. He goes on to excel in academics and sports.

Meanwhile, Shekhar’s method of teaching wins approval by the education board in the end. He decides to leave the boarding school to spread his message elsewhere through his unorthodox but successful ways.

Check Also

रंग रंग में जोश भरता "जन गण मन" - भारत का राष्ट्रगान

रग-रग में जोश भरता “जन गण मन” – भारत का राष्ट्रगान

राष्ट्रगीत हो या राष्ट्रध्वज देशवासियों के आन-बान और शान के साथ प्रेरणा स्रोत होता है। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *