Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » आदत – सहने की – ओम प्रकाश बजाज
आदत - सहने की - ओम प्रकाश बजाज

आदत – सहने की – ओम प्रकाश बजाज

जरा – जरा सी बात पर,
न शोर मचाओ।
थोड़ा बहुत सहने की,
आदत भी बनाओ।
चोट – चपेट तो सब को,
लगती रहती है।
कठिनाइया परेशानियां तो,
आती-जाती रहती है।
धीरज रखना ही पड़ता है,
सहना – सुनना भी पड़ता है।
सहनशीलता जीवन में,
बहुत काम आती है।
निराश होने से हमें,
सदा बचाती है।

~ ओम प्रकाश बजाज

Check Also

हद हो गई शैतानी की - नटखट बच्चों की बाल-कविता

हद हो गई शैतानी की – नटखट बच्चों की बाल-कविता

टिंकू ने मनमानी की, हद हो गई शैतानी की। सोफे का तकिया फेका, पलटा दिया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *