Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » 15 अगस्त – मीनाक्षी भालेराव
15 अगस्त - मीनाक्षी भालेराव

15 अगस्त – मीनाक्षी भालेराव

जब-जब पन्द्रह अगस्त आता है,
मन आंगन में रस बरसाता है।

मन में नये अहसास नई
उमंगें जगाता है,
वीरों के गुणगान गाता है।

जब-जब वीर रस बरसता है
तब-तब जीवन फिर,
मधुमास बन जाता है।

प्रतिध्वनियों सा बज कर
सोये वीरों को जगाता है।

भारत माँ की शान में
जीना-मरना सिखलाता है।

वीरों का कोलाहल मन में
देश प्रेम जगाता है।

हिन्दू-मुस्लिम, सिख, ईसाई
होने का भ्रम मिटाता है।

जब-जब पन्द्रह अगस्त आता है
मन आंगन में रस बरसाता है।

∼ मीनाक्षी भालेराव

About Meenakshi Bhalerao

Check Also

Christmas Quotes in English

Christmas Quotes in English

Christmas Quotes in English: Christmas is the spirit of giving without a thought of getting. It is …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *